Faiz Ahmad Faiz
Faiz Ahmad Faiz

Faiz Ahmad Faiz
बोल

Sites conseillés :

 

 

 

Écoutez ce poème lu en français par Annette Mouret.

 

बोल Parle !
Faiz Ahmad Faiz Traduction : Jyoti Garin et Annette Mouret
बोल के लब आज़ाद हैं तेरे
बोल ज़ुबाँ अब तक तेरी है
तेरा सुतवाँ जिस्म है तेरा
बोल के जाँ अब तक तेरी है
Parle, car elles sont libres, tes lèvres,
Parle, ta langue est tienne encore,
Ton corps robuste est tien,
Parle, ton âme est tienne encore !
देख के आहंगर की दुकाँ में
तुंद हैं शोले सुर्ख़ है आहन
खुलने लगे क़ुफ़्लों के दहाने
फैला हर इक ज़ंजीर का दामन
Regarde, dans l’échoppe du ferronnier,
Les flammes fusent, le fer rougit,
Les anses des cadenas se délient,
Là, un voile de chaînes est déployé…
बोल ये थोड़ा वक़्त बहुत है
जिस्म-ओ-ज़बाँ की मौत से पहले
बोल के सच ज़िंदा है अब तक
बोल जो कुछ कहना है कह ले
Parle, tu as peu de temps
Avant la mort du corps et de la voix,
Parle, car la vérité est vivante, encore,
Parle, dis tout ce que tu as à dire !