Javed Akhtar
Javed Akhtar

Javed Akhtar
एक मोहरे का सफ़र

Consultez le site consacré à Javed Aktar.

Poème extrait du recueil tarkash (carquois), publié pour la première fois en ourdou en 1995.

एक मोहरे का सफ़र Le voyage d’un pion
Javed Akhtar Traduction : Francine de Perczynski
जब वो कम उम्र का ही था
उसने ये जान लिया था कि अगर जीना है
बड़ी चालाकी से जीना होगा
आँख की आख़िरी हद तक है बिसाते-हस्ती
और वो मामूली-सा इक मोहरा है।
एक एक ख़ाना बहुत सोच के चलना होगा
बाज़ी आसान न होगी
दूर तक चारों तरफ़ फैले थे
मोहरे
जल्लाद
निहायत सफ़्फ़ाक
सख़्त बेरहम
बहुत ही चालाक
अपने कब्ज़े में लिये
पूरी बिसात
उसके हिस्से में फ़क़त मात लिये
Quand il était encore très jeune,
Il avait appris que pour rester en vie
Alors il faut être très rusé.
L’échiquier s’étend aussi loin que porte le regard
Et lui, il n’est qu’un simple pion.
Il doit se déplacer de case en case après avoir mûrement réfléchi.
Pour lui, la partie n’était pas facile…
En tout lieu, de tous les côtés, étaient déployés
Des pions,
Sans-cœur,
Terriblement assoiffés de sang,
Durs, impitoyables,
Et vraiment pleins de ruse,
Contrôlant
L’échiquier tout entier
Avec pour unique intention : lui infliger comme sort « échec et mat ».
वो जिधर जाता
उसे मिलता था
हर नया ख़ाना नई घात लिये
वो मगर बचता रहा
चलता रहा
एक घर
दूसरा घर
तीसरा घर
पास आया कभी औरों के
कभी दूर हुआ
वो मगर बचता रहा
चलता रहा
गो कि मामूली सा मोहरा था मगर जीत गया
यूँ इक रोज़ बड़ा मोहरा बना
अब वो मफ़ूज़ है इक ख़ाने में
इतना महफ़ूज़ कि दुश्मन तो अलग
दोस्त भी पास नहीं आ सकते
Dans tous ses déplacements
Il rencontrait
Une nouvelle case qui marquait un nouveau guet-apens
Mais il survécut,
Progressa
Une maison,
Une seconde maison
Une troisième maison.
Parfois, il s’approchait des autres,
Parfois, il s’en éloignait
Mais il survécut,
Progressa.
Bien qu’il ne fût qu’un simple pion, il l’emporta
Puis un jour, il devint un pion adulte.
Depuis, il est protégé à l’intérieur d’une case
Si protégé que, sans parler de ses ennemis
Même ses amis ne peuvent l’approcher.
उसके हाथ में है जीत उसकी
दूसरे हाथ में तनहाई है।
Dans une main, il y a la victoire
Dans l’autre, c’est la solitude.