Javed Akhtar
Javed Akhtar

Javed Akhtar
मेरी दुआ है

Consultez le site consacré à Javed Aktar.

Poème extrait du recueil tarkash (carquois), publié pour la première fois en ourdou en 1995.

मेरी दुआ है C’est ma prière…
Javed Akhtar Traduction : Sakina Safy et Jyoti Garin
ख़ला के गहरे समंदरों में
अगर कहीं कोई है जज़ीरा
जहाँ कोई साँस ले रहा है
जहाँ कोई दिल धड़क रहा है
जहाँ ज़हानत ने इल्म का जाम पी लिया है
जहाँ के बासी
ख़ला के गहरे समंदरों में
उतारने को हैं अपने बेड़े
तलाश करने कोई जज़ीरा
जहाँ कोई साँस ले रहा है
जहाँ कोई दिल धड़क रहा है
Dans les profonds océans de l’espace,
Si quelque part, il y a une île
Où quelqu’un respire,
Où un cœur bat,
Où l’intelligence a bu dans la coupe de la connaissance…
Que ces habitants-là,
Dans les profonds océans de l’espace,
Larguent les amarres
Pour aller explorer d’autres îles…
Là où quelqu’un respire,
Où un cœur bat.
मेरी दुआ है
कि उस जज़ीरे में रहनेवलों के जिस्म का रंग
इस जज़ीरे के रहनेवलों के जिस्म के जितने रंग हैं
उनसे मुख़्तल्फ़ हो
बदन की हैअत भी मुख़्तलिफ़
और शक्लोसूरुत भी मुख़्तलिफ़ हो
C’est ma prière
Que la couleur de peau des habitants de cette île,
De toutes les couleurs de peau des habitants de mon île
Soit différente.
Que l’aspect de leur corps
Ainsi que la forme de leur visage soient différents.
मेरी दुआ है
अगर है उनका भी कोई मज़हब
तो इस जज़ीरे के मज़हबों से वो मुख़्तलिफ़ हो
C’est ma prière
Que s’ils ont une quelconque croyance,
Alors, que cette croyance, de toutes les croyances de mon île, soit différente.
मेरी दुआ है
कि इस जज़ीरे की सब ज़बानों से मुख़्तल्फ़ हो
ज़बान उनकी
C’est ma prière
Que de toutes les langues de mon île,
Leur langue soit différente.
मेरी दुआ है
ख़ला के गहरे समंदरों से गुज़र के
एक दिन
उस अजनबी नस्ल के जहाज़ी
ख़लाई बेड़े में
इस जज़ीरे तक आएँ
हम उनके मेज़बाँ हों
हम उनको हैरत से देखते हों
वो पास आकर
हमें इशारों से ये बताएँ
कि उनसे हम इतने मुख़्तल्फ़ हैं
कि उनको लगता है
C’est ma prière
Qu’après avoir traversé le profond océan de l’espace,
Un jour,
Que les navigateurs de cette race inconnue,
Dans leur bateau cosmique
Accostent sur mon île.
Que nous soyons leurs hôtes,
Nous les regardions avec émoi.
S’approchant de nous,
Qu’ils nous disent par signes
Combien nous sommes différents d’eux.
Combien il leur semble
इस जज़ीरे के रहनेवाले
सब एक से हैं
Que les habitants de mon île
Tous se ressemblent.
मेरी दुआ है
कि इस जज़ीरे के रहनेवले
उस अजनबी नस्ल के कहे का यक़ीन कर लें।
C’est ma prière
Que les habitants de mon île
Croient ce que leur dit cette race inconnue.