Dharamvir Bharati
Dharamvir Bharati

Dharamvir Bharati
अंधा युग

Sites conseillés :

Pièce de théâtre publiée pour la première fois en 1965 chez Kitab Mahal. Extraits pris de l’édition de 2005.

Le texte reproduit ci-dessous a été lu en public le 14 mai 2008 à Aix-en-Provence. Voir le diaporama en téléchargement (format PowerPoint) ou en vidéo ci-dessous.

अंधा युग L’époque aveugle
Dharamvir Bharati Traduction : Muriel Calvet, Jacqueline Cassé, Jyoti Garin, Annie Heulin et Claire Vincent
पहला अंक Scène 1
(कौरव नगरी
तीन बार तूर्यनाद के उपरान्त)
La cité des Kauravas
Après trois coups de trompette
कथा-गायन Chant narratif
टुकड़े-टुकड़े हो बिखर चुकी मर्यादा
उसको दोनों ही पक्षों ने तोड़ा है
पाण्डव ने कुछ कम कौरव ने कुछ ज़्यादा
यह रक्तपात अब कब समाप्त होना है
यह अजब युद्ध है नहीं किसी की भी जय
दोनों पक्षों को खोना ही खोना है
अंधों से शोभित था युग का सिंहासन
दोनों ही पक्षों में विवेक ही हारा
दोनों ही पक्षों में जीता अंधापन
भय का अंधापन, ममता का अंधापन
अधिकारों का अन्धापन जीत गया
जो कुछ सुन्दर था, शुभ था, कोमलतम था
वह हार गया… द्वापर युग बीत गया
Brisée, l’éthique a volé en éclats
Les deux clans l’ont brisée
Les Pandavas, un peu moins, les Kauravas, un peu plus.
Ce bain de sang, quand va-t-il cesser ?
C’est une guerre étrange, la victoire n’est à personne
Pour les deux clans, c’est perte sur perte
Le trône de l’Époque est occupé, vain ornement, par des aveugles.
Dans les deux clans, la clairvoyance a perdu.
Dans les deux clans, l’aveuglement a gagné :
l’aveuglement de la peur et l’aveuglement de l’amour des parents.
L’aveuglement des privilèges a gagné
Le beau, le juste, ce qu’il y avait de plus tendre…
ont perdu… l’époque dvâpar s’en est allée.
(पर्दा उठने लगता है) Le rideau commence à se lever.
(पर्दा उठने पर स्टेज ख़ाली है। दाईं और बाईं ओर बरछे और ढाल लिये दो प्रहरी हैं जो वारतालाप करते हुए यन्त्र-परिचालित से स्टेज के आर-पार चलते हैं।) Au lever du rideau, la scène est vide. De droite et de gauche, arrivent deux gardes avec des lances et des boucliers. Ils marchent de long en large en maniant leurs armes.
थके हुए हैं हम,
पर घूम-घूम पहरा देते हैं
इस सूने गलियारे में
प्रहरी १ Garde 1 Nous sommes fatigués,
mais nous continuons à monter la garde en déambulant
dans cette galerie déserte.
सूने गलियारे में
जिसके इन रत्न-जटित फ़र्शों पर
कौरव-वधुएँ
मंथर-मंथर गति से
सुरभित पवन-तरंगों-सी चलती थीं
आज वे विधवा हैं
प्रहरी २ Garde 2 Dans cette galerie déserte
incrustée de pierres précieuses
où dans une insouciante gaieté
flânaient, telles des effluves parfumées,
les belles-filles des Kauravas
Aujourd’hui, elles sont veuves.
थके हुए हैं हम,
इसलिये नहीं कि
कहीं युद्धों में हमने भी
बाहुबल दिखाया है
प्रहरी थे हम केवल
सत्रह दिनों के लोमहर्षक संग्राम में
भाले हमारे ये,
ढालें हमारी ये,
निरर्थक पड़ी रहीं
अंगों पर बोझ बनी
रक्षक थे हम केवल
लेकिन रक्षणीय कुछ भी नहीं था यहाँ
प्रहरी १ Garde 1 Nous sommes fatigués,
non parce que,
quelque part dans les combats, nous aussi
nous avons déployé nos forces.
Nous n’étions que des gardes.
Durant ces dix-sept jours de bataille palpitante,
nos lances,
nos boucliers,
nous ont été inutiles :
ils sont restés à peser sur nos bras tel un fardeau.
Nous n’étions que des défenseurs,
mais rien n’était digne d’être défendu.
रक्षणीय कुछ भी नहीं था यहाँ
संस्कृति थी यह एक बूढ़े और अंधे की
जिसकी संतानों ने
महायुद्ध घोषित किये,
जिसके अंधेपन में मर्यादा
गलित अंग वेश्या-सी
प्रजाजनों को भी रोगी बनाती फिरी
उस अंधी संस्कृति,
उस रोगी मर्यादा की
रक्षा हम करते रहे
सत्रह दिन।
प्रहरी २ Garde 2 Rien n’était digne d’être défendu…
Voilà les mœurs d’un vieillard aveugle
dont la progéniture
a proclamé les terribles batailles.
Un vieillard dont l’aveuglement, l’éthique,
telle une courtisane au corps déchu,
a contaminé même les sujets.
Ces mœurs aveugles,
cette éthique malade,
ils ont été défendus
pendant dix-sept jours.
जिसने अब हमको थका डाला है
मेहनत हमारी निरर्थक थी
आस्था का,
साहस का,
श्रम का,
अस्तित्व का हमारे
कुछ अर्थ नहीं था
कुछ भी अर्थ नहीं था
प्रहरी १ Garde 1 Voilà ce qui nous a fatigués !
Nos efforts étaient vains.
Notre loyauté,
notre témérité,
notre labeur,
notre existence même
n’avaient pas de sens,
aucun sens.
अर्थ नहीं था
कुछ भी अर्थ नहीं था
जीवन के अर्थहीन
सूने गलियारे में
पहरा दे देकर
अब थके हुए हैं हम
अब चुके हुए हैं हम
प्रहरी २ Garde 2 Aucun sens,
pas de sens.
Dans les galeries vaines
et désertes de la vie,
à force de monter la garde,
maintenant nous sommes fatigués,
maintenant nous sommes épuisés.
(चुप होकर वे आर-पार घूमते हैं। सहसा स्टेज पर प्रकाश धीमा हो जाता है। नेपथ्य से आंधी की-सी ध्वनि आती है। एक प्रहरी कान लगा कर सुनता है, दूसरा भौंहों पर हाथ रख कर आकाश की ओर देखता है।) Muets, ils reprennent leur déambulation. Soudain la lumière baisse sur la scène. On entend un bruit de tonnerre dans les coulisses. Un garde tend l’oreille, la main en visière, il tourne son regard vers le ciel.
सुनते हो
कैसी है ध्वनि यह भयावह ?
प्रहरी १ Garde 1 Entends-tu ?
Quel est ce bruit si terrifiant ?
सहसा अँधियारा क्यों होने लगा
देखो तो
दीख रहा है कुछ ?
प्रहरी २ Garde 2 Pourquoi cette soudaine obscurité ?
Regarde donc,
Vois-tu quelque chose ?
अंधे राजा की प्रजा कहाँ तक देखे ?
दीख नहीं पड़ता कुछ
हाँ, शायद बादल है
प्रहरी १ Garde 1 Jusqu’où peut voir le sujet d’un roi aveugle ?
On ne distingue rien.
Oui, c’est peut-être un nuage.
(दूसरा प्रहरी भी बगल में आकर देखता है और भयभीत हो उठता है) Le deuxième garde s’approche. Il regarde et lui aussi est terrifié.
बादल नहीं है
वे गिद्ध हैं
लाखों-करोड़ों
पाँखें खोले
प्रहरी २ Garde 2 Ce n’est pas un nuage.
Ce sont des vautours
par centaines, par milliers,
aux ailes déployées…
(पंखों की ध्वनि के साथ स्टेज पर और भी अँधेरा) Au bruit des ailes, la scène s’obscurcit encore.
लो
सारी कौरव नगरी
का आसमान
गिद्धों ने घेर लिया
प्रहरी १ Garde 1 Regarde !
Le ciel tout entier
de la cité des Kauravas,
les vautours l’ont envahi.
झुक जाओ
झुक जाओ
ढालों के नीचे
छिप जाओ
नरभक्षी हैं
वे गिद्ध भूखे हैं।
प्रहरी २ Garde 2 Baisse-toi,
Baisse-toi !
Sous les boucliers,
cache-toi !
Ils sont charognards,
ces vautours sont affamés !
(प्रकाश तेज़ होने लगता है) La lumière revient peu à peu.
लो ये मुड़ गए
कुरुक्षेत्र की दिशा में
प्रहरी १ Garde 1 Tiens, ils font demi-tour
vers Kouroukchetra !
(आँधी की ध्वनि कम होने लगती है) Les coups de tonnerre s’éloignent.
मौत जैसे
ऊपर से निकल गई
प्रहरी २ Garde 2 Comme si la mort
s’était écartée…
अशकुन है
भयानक वह।
पता नहीं क्या होगा
कल तक
इस नगरी में
प्रहरी १ Garde 1 Quel mauvais présage…
C’est terrifiant !
Qui sait ce qui va advenir
d’ici demain
dans cette cité ?
(विदुर का प्रवेश बाईं ओर से) Vidour entre côté cour.
कौन है ? प्रहरी १ Garde 1 Qui va là ?
मैं हूँ
विदुर
देखा धृतराष्ट्र ने
देखा यह भयानक दृष्य ?
विदुर Vidour C’est moi,
Vidour
Dhritarachtra a-t-il vu ?
A-t-il vu cette scène terrifiante ?
देखेंगे कैसे वे ?
अंधे हैं।
कुछ भी क्या देख सके
अब तक
वे ?
प्रहरी १ Garde 1 Comment pourrait-il voir ?
Il est aveugle.
A-t-il déjà pu
voir quelque chose
jusqu’à maintenant ?
मिलूंगा उनसे मैं
अशकुन भयानक है
पता नहीं संजय
क्या समाचार लाए आज
विदुर Vidour Je vais le rencontrer.
Le présage est terrifiant !
Qui sait quelles nouvelles
Sandjay va apporter aujourd’hui…
(प्रहरी जाते हैं, विदुर अपने स्थान पर चिन्तातुर खड़े रहते हैं। पीछे का पर्दा उठने लगता है।) Les gardes s’en vont. Vidour est debout. Il reste immobile, plongé dans ses pensées. Le rideau du fond de scène se lève.
कथा गायन Chant narratif
है कुरुक्षेत्र से कुछ भी ख़बर न आई
जीता या हारा बचा-खुचा कौरव-दल
जाने किसकी लोथों पर जा उतरेगा
यह नरभक्षी गिद्धों का भूखा बादल
अन्तःपुर में मरघट की-सी ख़ामोशी
कृश गान्धारी बैठी है शीश झुकाए
सिंहासन पर धृतराष्ट्र मौन बैठे हैं
संजय अब तक कुछ भी संवाद न लाए।
Pas de nouvelles du champ de bataille de Kouroukchetra.
Ce qui reste de l’armée des Kauravas, a-t-elle gagné ou perdu ?
Qui sait sur quels cadavres va fondre
ce nuage de vautours charognards affamés ?
Dans la salle d’audience, on dirait le silence des champs de crémations.
Décharnée, Gandhari est assise, la tête baissée.
Sur le trône, Dhritarachtra est assis, muet.
Sandjay n’a encore rapporté aucune nouvelle.
(पर्दा उठने पर अन्तःपुर। कुशासन बिछाए सादी चौकी पर गान्धारी एक छोटे सिंहासन पर चिन्तातुर धृतराष्ट्र। विदुर उनकी ओर बढ़ते हैं।) Au lever de rideau, le quartier des femmes. Gandhari est assise sur un tabouret sur une natte déroulée. Dhritarachtra est assis sur un petit trône, plongé dans ses pensées. Vidour s’avance vers lui.
कौन संजय ? धृतराष्ट्र Dhritarachtra Qui est-ce ? Sandjay ?
नहीं !
विदुर हूँ।
महाराज।
विह्वल है सारा नगर आज
बचे-खुचे जो भी दस-बीस लोग
कौरव नगरी में हैं
अपलक नेत्रों से
कर रहे प्रतीक्षा हैं
संजय की।
विदुर Vidour Non,
c’est Vidour
Maharadj.
Aujourd’hui, toute la ville est en émoi.
Les quelques habitants qui sont restés
dans le royaume des Kauravas,
le regard fixe,
attendent
l’arrivée de Sandjay.
(कुछ क्षण महाराज के उत्तर की प्रतीक्षा कर) Attendant quelques instants la réponse de Maharadj.
महाराज
चुप क्यों हैं इतने
आप ?
माता गान्धारी भी मौन हैं !
विदुर Vidour Maharadj,
pourquoi êtes-vous
si taciturne
Mata Gandhari aussi a fait vœu de silence.
विदुर !
जीवन में प्रथम बार
आज मुझे आशंका व्यापी है।
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Vidour,
dans ma vie, pour la première fois,
le doute m’envahit.
आशंका ?
आपको जो व्यापी है आज
वह वर्षों पहले हिला गयी थी सबको
विदुर Vidour Le doute ?
Ce qui vous envahit aujourd’hui,
il y a bien des années que d’autres l’ont ressenti.
पहले पर कभी भी तुमने यह नहीं कहा… धृतराष्ट्र Dhritarachtra Mais tu ne m’en as jamais parlé auparavant !
भीष्म ने कहा था,
गुरु द्रोण ने कहा था,
इसी अन्तःपुर में
आकर कृष्ण
ने कहा था -
‘मर्यादा मत तोड़ो
तोड़ी हुई मर्यादा
कुचले हुए अजगर-सी
गुंजलिका में कौरव-वंश को लपेट कर
सूखी लकड़ी-सा तोड़ डालेगी।’
विदुर Vidour Bishma l’avait dit,
Le maître Drona l’avait dit.
Dans cette même salle d’audience,
Krishna était venu
le dire :
« Ne brise pas l’éthique.
L’éthique brisée
est tel un python blessé,
qui dans ses spires enroule le clan des Kauravas,
et le brise comme du bois sec. »
समझ नहीं सकते हो
विदुर तुम।
मैं था जन्मान्ध।
कैसे कर सकता था
ग्रहण मैं
बाहरी यथार्थ या सामाजिक मर्यादा को ?
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Toi, Vidour,
tu ne peux pas comprendre.
Je suis né aveugle.
Comment aurais-je pu
connaître
les règles éthiques de la société ?
जैसे संसार को किया था ग्रहण
अपने अन्धेपन
के बावजूद
विदुर Vidour Comme vous l’avez fait,
malgré votre cécité,
pour ce monde.
पर वह संसार
स्वतः अपने अन्धेपन से उपजा था।
मैंने अपने ही वैयक्तिक सम्वेदन से जो जाना था
केवल इतना ही था मेरे लिये वस्तु-जगत्
इन्द्रजाल की माया- सृष्टि के समान
घने गहरे अँधियारे में
एक काले बिन्दु से
मेरे मन ने सारे भाव किये थे विकसित
मेरी सब वृत्तियाँ उसी से परिचालित थीं !
मेरा स्नेह, मेरी घृणा, मेरी नीति, मेरा धर्म
बिलकुल मेरा ही वैयक्तिक था।
उसमें नैतिकता का कोई बाह्य मापदंड था ही नहीं।
कौरव जो मेरी मांसलता से उपजे थे
वे ही थे अन्तिम सत्य
मेरी ममता ही वहाँ नीति थी,
मर्यादा थी।
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Mais ce monde
était lui-même né de mon aveuglement.
Ce que j’avais appris grâce à mes seuls sens,
cela seulement, fut pour moi le monde matériel.
Dans mon obscurité profonde,
à partir d’un point noir,
mon cœur a développé tous mes sentiments.
Toutes mes attitudes en étaient issues,
mon amour, mes haines,
ma morale, mes principes,
voilà ce qu’était toute ma personnalité.
Il n’y avait là aucun repère extérieur.
Les Kauravas sont nés de ma chair,
eux seuls étaient mon ultime vérité.
Seul l’attachement filial était ma morale,
c’était mon éthique.
पहले ही दिन से किन्तु
आपका वह अन्तिम सत्य
- कौरवों का सैनिक-बल -
होने लगा था सिद्ध झूठा और शक्तिहीन
पिछले सत्रह दिन से
एक-एक कर
पूरे वंश के विनाश का
सम्वाद आप सुनते रहे।
विदुर Vidour Mais, depuis le tout premier jour
Cette vérité ultime,
la force armée des Kauravas,
s’est révélée un total mensonge.
Depuis les dix-sept derniers jours,
l’un après l’autre,
l’anéantissement de toute la lignée,
voilà les nouvelles que vous ne cessez d’entendre.
मेरे लिये वे सम्वाद सब निरर्थक थे।
मैं हूँ जन्मान्ध
केवल सुन ही तो सकता हूँ
संजय मुझे देते हैं केवल शब्द
उन शब्दों से जो आकार-चित्र बनते हैं
उनसे मैं अब तक अपिरिचित हूँ
कल्पित कर सकता नहीं
कैसे दुःशासन की आहत छाती से
रक्त उबल रहा होगा,
कैसे क्रूर भीम ने अंजुली में
धार उसे
ओठ तर किये होंगे।
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Mais pour moi, toutes ces nouvelles étaient sans véritable signification.
Je suis né aveugle.
Je ne peux qu’entendre.
Sandjay ne me donne que des mots.
Et les images dessinées dans mon esprit à partir de ces mots,
jusqu’à maintenant, j’y suis resté étranger.
Il ne m’est pas possible d’imaginer
comment de la poitrine blessée de Douchassan,
le sang peut bouillonner.
Comment, le cruel Bhim,
le recueillant dans le creux de sa main,
aurait pu y tremper ses lèvres.
(कानों पर हाथ रखकर)
महाराज।
मत दोहोराएं वह
सह नहीं पाऊगी।
गान्धारी Gandhari Mettant ses mains sur ses oreilles
Ah Maharadj,
ne répétez pas cela !
Je ne pourrai le supporter.
(सब क्षण भर चुप) Tous restent silencieux un instant.
आज मुझे भान हुआ।
मेरी वैयक्तिक सीमाओं के बाहर भी
सत्य हुआ करता है
आज मुझे भान हुआ।
सहसा यह लगा कोई बाँध टूट गया है
कोटि-कोटि योजन तक दहाड़ता हुआ समुद्र
मेरे वैयक्तिक अनुमानित सीमित जग को
लहरों की विषय-जिह्वाआओं से निगलता हुआ
मेरे अन्तर्मन में पैठ गया
सब कुछ बह गया
मेरे अपने वैयक्तिक मूल्य
मेरी निश्चिन्त किन्तु ज्ञानहीन आस्थाएँ।
यह जो पीड़ा ने
पराजय ने
दिया है ज्ञान,
दृढ़ता ही देगा वह।
किन्तु, इस ज्ञान ने
भय ही दिया है विदुर !
जीवन में प्रथम बार
आज मुझे आशंका व्यापी है।
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Aujourd’hui je suis conscient
qu’en dehors de mes limites personnelles aussi,
la vérité existe.
Aujourd’hui, j’en suis conscient…
Soudain, j’ai l’impression qu’un barrage a cédé.
Rugissant sur des milliers de miles,
avalant de ses vagues, telles des langues,
mon univers personnel, fictif et limité,
un océan a fait irruption dans mon esprit.
Tout a été balayé :
mes valeurs individuelles,
ma foi, mes ignorantes croyances.
Ce que la douleur,
la défaite
donne à connaître,
cela donnera de la force.
Mais ce savoir
N’a apporté que l’épouvante, Vidour.
Pour la première fois dans ma vie,
aujourd’hui le doute me pénètre.
भय है तो
ज्ञान है अधूरा अभी।
प्रभु ने कहा था यह
‘ज्ञान जो समर्पित नहीं है
अधूरा है
मनोबुद्धि तुम अर्पित कर दो मुझे।
भय से मुक्त होकर
तुम प्राप्त मुझे ही होगे
इसमें संदेह नहीं।’
विदुर Vidour Si la crainte est là,
alors le savoir est incomplet encore.
« Le Seigneur l’a dit :
Le savoir qui n’est pas soumis
est incomplet.
Fais-moi l’offrande de ton intelligence
et libéré de la crainte,
tu me trouveras. »
En cela, il n’y a pas de doute.
(आवेश से)
इसमें संदेह है
और किसी को मत हो
मुझको है।
‘अर्पित कर दो मुझको मनोबुद्धि’
उसने कहा है यह
जिसने पितामह के वाणों से
आहत हो अपनी सारी ही
मनोबुद्धि खो दी थी ?
उसने कहा है यह,
जिसने मर्यादा को तोड़ा है बार-बार ?
गान्धारी Gandhari Emportée
Justement, il y a un doute !
Peut-être pas pour les autres,
mais pour moi, si.
« Offre-moi ton cœur et ton esprit. »
Il a dit ça,
celui qui, blessé par les flèches de Bhishma,
avait perdu
cœur et esprit ?
Il a dit ça,
celui qui ne cesse de transgresser les règles éthiques, encore et encore ?
शान्त रहो
शान्त रहो,
गान्धारी, शान्त रहो।
दोष किसी को मत दो।
अन्धा था मैं…
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Calme-toi,
calme-toi,
Gandhari, calme-toi.
N’accuse personne.
J’étais aveugle…
लेकिन अन्धी नहीं थी मैं।
मैंने यह बाहर का वस्तु-जगत् अच्छी तरह जाना था
धर्म, नीति, मर्यादा, यह सब हैं केवल आडम्बर मात्र,
मैंने यह बार-बार देखा था।
निर्णय के क्षण में विवेक और मर्यादा
व्यर्थ सिद्ध होते आए हैं सदा
हम सब के मन में कहीं एक अन्ध गह्वर है।
बर्बर पशु अन्धा पशु वास वहीं करता है,
स्वामी जो हमारे विवेक का,
नैतिकता, मर्यादा, अनासक्ति, कृष्णार्पण
यह सब हैं अन्धी प्रवृत्तियों की पोशाकें
जिनमें कटे कपड़ों की आँखें सिली रहती हैं
मुझको इस झूठे आडम्बर से नफ़रत थी
इसलिये स्वेच्छा से मैंने इन आँखों पर पट्टी चढ़ा रक्खी थी।
गान्धारी Gandhari Mais moi, je n’étais pas aveugle.
Je le connaissais bien ce monde superficiel.
Ordre, moralité, éthique, ce ne sont là que simples décors
Maintes fois, je l’ai vu…
Au moment de prendre une décision, le discernement et l’éthique
se sont toujours avérés inutiles.
Quelque part en nous, tous, nous avons une part obscure.
L’animal barbare, l’animal aveugle se terre là,
maître de notre discernement.
Moralité, éthique, détachement, soumission à Krishna,
Nos instincts aveugles ne sont que les vêtements d’apparat.
Dans leur étoffe, la place des yeux reste cousue.
Je détestais ce décorum mensonger.
C’est pourquoi j’avais volontairement posé un bandeau sur mes yeux…
कटु हो गई हो तुम
गान्धारी !
पुत्रशोक ने तुमको अन्दर से
जर्जर कर डला है !
तुम्हीं ने कहा था
दुर्योधन से…
विदुर Vidour Tu es devenue amère,
Gandhari !
Le deuil de la perte de tes fils
t’a affaiblie.
Mais c’est toi qui avais dit
à Douryodhana…
मैंने कहा था दुर्योधन से
धर्म जिधर होगा ओ मूर्ख !
उधर जय होगी !
धर्म किसी ओर नहीं था। लेकिन !
सब ही थे अन्धी प्रवृत्तियों से परिचालित
जिसको तुम कहते हो प्रभु
उसने जब चाहा
मर्यादा को अपने ही हित में बदल लिया।
वंचक है।
गान्धारी Gandhari J’avais dit à Douryodhana :
Ô imbécile, là où règnera l’Ordre,
là sera la victoire !
Mais l’Ordre n’était dans aucun camp !
Ils étaient tous livrés à des instincts aveugles.
Celui que tu appelles « Seigneur »,
à son bon vouloir,
celui-là a changé la règle éthique en sa faveur.
C’est un imposteur !
शान्त रहो गान्धारी। धृतराष्ट्र Dhritarachtra Calme-toi Gandhari.
यह कटु निराशा की
उद्धत अनास्था है।
क्षमा करो प्रभु !
यह कटु अनास्था भी अपने
चरणों में स्वीकार करो !
आस्था तुम लेते हो
लेगा अनास्था कौन ?
क्षमा करो प्रभु !
पुत्र-शोक से जर्जर माता हैं गान्धारी।
विदुर Vidour Voilà que l’amer désespoir
te fait perdre la foi.
Pardonne-moi, Seigneur !
Cette amère mécréance aussi,
accepte-la à tes pieds !
Tu accueilles la foi,
qui donc va accueillir la mécréance ?
Pardonne-moi, Seigneur !
Depuis la perte de ses fils, Mata Gandhari est affaiblie.
माता मत कहो मुझे
तुम जिसको कहते हो प्रभु
वह भी मुझे माता ही कहता है।
शब्द यह जलते हुए लोहे की सलाखों-सा
मेरी पसलियों में धँसता है।
सत्रह दिन के अन्दर
मेरे सब पुत्र एक-एक कर मारे गए
अपने इन हाथों से
मैंने उन फूलों-सी वधुओं की कलाइयों से
चूड़ियाँ उतारी हैं
अपने इस आँचल से
सेंदुर की रेखाएँ पोंछी हैं।
गान्धारी Gandhari Ne m’appelle pas Mata, « mère ».
Celui que tu appelles « Seigneur »,
lui aussi, m’appelle « Mata ».
Ce mot, tel un glaive de feu,
me transperce.
En dix-sept jours,
tous mes fils, l’un après l’autre, ont été tués.
De ces mains,
j’ai enlevé les bracelets des poignets
de leurs épouses, telles des fleurs.
Avec le rebord de mon sari,
j’ai essuyé leurs marques de vermillon.
(नेपथ्य से) Dans les coulisses
जय हो
दुर्योधन की जय हो।
गान्धारी की जय हो।
मंगल हो,
नरपति ध्र्तराष्ट्र का मंगल हो।
  Victoire !
Victoire à Douryodhana
Victoire à Gandhari
Que le bien soit !
Que le bien soit pour le protecteur des hommes, Dhritarachtra !
देखो।
विदुर देखो ! संजय आए।
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Regarde,
Regarde Vidour, Sandjay est arrivé…
जीत गया
मेरा पुत्र दुर्योधन
मैंने कहा था
वह जीतेगा निश्चय आज।
गान्धारी Gandhari Il a gagné,
mon fils Douryodhana !
Je l’avais prédit.
Il gagnera certainement aujourd’hui.
(प्रहरी का प्रवेश) Un garde entre.
याचक है महाराज ! प्रहरी Le garde Un mendiant est là, Maharadj !
(याचक का प्रवेश) Le mendiant entre.
एक वृद्ध याचक है। C’est un vieux mendiant.
याचक है ?
उन्नत ललाट
श्वेतकेशी
आजानुबाहु ?
विदुर Vidour Un mendiant ?
Au front noble,
aux cheveux blancs
et aux bras qui touchent les genoux ?
मैं वह भविष्य हूँ
जो झूठा सिद्ध हुआ आज
कौरव की नगरी में
मैंने मापा था, नक्षत्रों की गति को
उतारा था अंकों में।
मानव-नियति के
अलिखित अक्षर जाँचे थे।
मैं था ज्योतिषी दूर देष का।
याचक Le mendiant Je suis cet avenir
qui s’est avéré mensonger aujourd’hui
dans la cité des Kauravas.
J’avais mesuré le mouvement des étoiles.
Je l’avais calculé.
De la destinée de l’homme,
j’avais étudié les caractères non inscrits.
J’étais l’astrologue d’un pays lointain.
याद मुझे आता है
तुमने कहा था कि द्वन्द्व अनिवार्य है
क्योंकि उससे ही जय होगी कौरव-दल की।
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Je me souviens,
tu avais dit, le conflit est inévitable
car c’est de lui que proviendra la victoire du clan des Kauravas.
मैं हूँ वही
आज मेरा विज्ञान सब मिथ्या ही सिद्ध हुआ।
सहसा एक व्यक्ति
ऐसा आया जो सारे
नक्षत्रों की गति से भी ज़्यादा शक्तिशली था।
उसने रणभूमी में
विषादग्रस्त अर्जुन से कहा -
‘मैं हूँ परात्पर।
जो कहता हूँ करो
सत्य जीतेगा
मुझसे लो सत्य, मत डरो।’
याचक Le mendiant En effet, je suis celui-là,
Mais aujourd’hui, ma science toute entière, s’est avérée mensongère.
Soudain, un homme
prodigieux est arrivé,
qui s’est avéré plus puissant que le mouvement des astres.
Sur le champ de bataille,
il dit à Arjuna :
‘Je suis l’Au-delà.
Fais ce que je te demande,
la Vérité triomphera.
Tiens la Vérité de moi, n’aies pas peur.’
प्रभु थे वे विदुर Vidour C’était le Seigneur !
कभी नहीं ! गान्धारी Gandhari Certainement pas !
उनकी गति में ही
समाहित है सारे इतिहासों की,
सारे नक्षत्रों की दैवी गति।
विदुर Vidour C’est Son mouvement
qui englobe l’Histoire toute entière,
le mouvement divin qui embrasse tous les mouvements des astres.
पता नहीं प्रभु हैं या नहीं
किन्तु, उस दिन यह सिद्ध हुआ
जब कोई भी मनुष्य
अनासक्त होकर चुनौती देता है इतिहास को,
उस दिन नक्षत्रों की दिशा बदल जाती है।
नियति नहीं है पूर्वनिर्धारित-
उसको हर क्षण मानव-निर्णय बनाता-मिटाता है।
याचक Le mendiant Je ne sais pas si c’est le Seigneur ou pas
mais, ce jour-là, il a été prouvé que
lorsqu’un homme,
détaché, lance un défi à l’Histoire,
ce jour-là, la trajectoire des astres est déviée.
Sa lancée n’est pas prédestinée…
à chaque instant, la décision humaine la fait ou la défait.
प्रहरी, इसको एक अंजुल मुद्राएं दो।
तुमने कहा है-
‘जय होगी दुर्योधन की।’
गान्धारी Gandhari Garde, donnez-lui une poignée de pierres précieuses
Tu as dit :
‘Douryodhan sera vainqueur.’
मैं तो हूँ झूठा भविष्य मात्र
मेरे शब्दों का इस वर्तमान में
कोई मूल्य नहीं,
मेरे जैसे
जाने कितने झूठे भविष्य
ध्वस्त स्वप्न
गलित तत्त्व
बिखरे हैं कौरव की नगरी में
गली-गली।
माता हैं गान्धारी
ममता में पाल रही हैं सब को।
याचक Le mendiant Je suis un simple avenir mensonger.
En ce présent, ces paroles
n’ont aucune valeur.
Comme moi,
qui sait combien d’avenirs mensongers,
de rêves tombés,
de principes épuisés,
sont dispersés dans la cité des Kauravas,
dans chaque ruelle.
Gandhari est mère
et son amour maternel nous protège tous.
(प्रहरी मुद्राएँ लाकर देता है) Le garde apporte des pierres précieuses.
जय हो दुर्योधन की
जय हो गान्धारी की
Victoire à Douryodhan !
Victoire à Gandhari !
(जाता है) Il part.
होगी,
अवश्य होगी जय।
मेरी यह आशा
यदि अन्धी है तो हो
पर जीतेगा दुर्योधन जीतेगा।
गान्धारी Gandhari Oui,
la victoire est certaine.
Si cet espoir est aveugle,
alors qu’il le soit !
Il gagnera, Douryodhan gagnera.
(दूसरा प्रहरी आकर दीप जलाता है) Le deuxième garde vient allumer les lampes.
डूब गया दिन… विदुर Vidour Le jour a disparu…
पर
संजय नहीं आए
लौट गए होंगे
सब योद्धा अब शिविर में
जीता कौन ?
हारा कौन ?
धृतराष्ट्र Dhritarachtra Mais
Sandjay n’est pas arrivé.
À cette heure-ci, tous les guerriers
ont dû se retirer dans leurs tentes…
Qui a gagné ?
Qui a perdu ?
महाराज !
संशय मत करें।
संजय जो समाचार लाएंगे शुभ होगा
माता अब जाकर विश्राम करें !
नगर-द्वार अपलक खुले ही हैं
संजय के रथ की प्रतीक्षा में
विदुर Vidour Maharadj !
Ne doutez point.
La nouvelle qu’apportera Sandjay sera favorable.
Mata, allez donc vous reposer maintenant.
Les portes de la cité restent ouvertes, sans fermer les paupières,
elles guettent Sandjay.
(एक ओर विदुर और दूसरी ओर धृतराष्ट्र तथा गान्धारी जाते हैं ; प्रहरी पुनः स्टेज के आरपार घूमने लगते हैं) Vidour part d’un côté, Dhritarachtra et Gandhari, de l’autre. De nouveau, les gardes arpentent la scène.
मर्यादा ! प्रहरी १ Garde 1 L’éthique !
अनास्था ! प्रहरी २ Garde 2 La mécréance !
पुत्रशोक ! प्रहरी १ Garde 1 Le chagrin de la perte des fils !
भविष्यत् प्रहरी २ Garde 2 L’avenir !
ये सब
राजाओं के जीवन की शोभा हैं
प्रहरी १ Garde 1
ce sont les ornements de la vie des rois.
वे जिनको ये सब प्रभु कहते हैं।
इस सब को अपने ही जिम्मे ले लेते हैं।
प्रहरी २ Garde 2 Celui que tous ces gens-là appellent « Seigneur »
Il les prend tous en charge !
पर यह जो हम दोनों का जीवन
सूने गलियारे में बीत गया
प्रहरी १ Garde 1 Mais, la vie, la nôtre,
passée dans les galeires désertes…
कौन इसे
अपने जिम्मे लेगा ?
प्रहरी २ Garde 2 Qui
va la prendre en charge ?
हमने मर्यादा का अतिक्रमण नहीं किया,
क्योंकि नहीं थी अपनी कोई भी मर्यादा।
प्रहरी १ Garde 1 Nous n’avons pas franchi l’éthique
car nous n’avions aucune éthique propre.
हमको अनास्था ने कभी नहीं झकझोरा,
क्योंकि नहीं थी अपनी कोई भी गहन आस्था।
प्रहरी २ Garde 2 Jamais la mécréance ne nous a titillés
car nous n’avions aucune croyance profonde.
हमने नहीं झेला शोक प्रहरी १ Garde 1 Nous n’avons pas subi de deuil.
जाना नहीं कोई दर्द प्रहरी २ Garde 2 Nous n’avons pas connu de douleur.
सूने गलियारे-सा सूना यह जीवन भी बीत गया। प्रहरी १ Garde 1 Comme ces galeries désertes, cette vie de service aussi a fait son temps.
क्योंकि हम दास थे प्रहरी २ Garde 2 Parce que nous étions des serviteurs.
केवल वहन करते थे आज्ञाएँ हम अन्धे राजा की प्रहरी १ Garde 1 Nous ne faisions qu’exécuter les ordres du roi aveugle.
नहीं था हमारा कोई अपना ख़ुद का मत,
कोई अपना निर्णय
प्रहरी २ Garde 2 Nous n’avions jamais d’avis personnel,
aucune initiative personnelle.
इसलिये सूने गलियारे में
निरुद्देश्य,
निरुद्देश्य,
चलते हम रहे सदा
दाएँ से बाएँ,
और बाएँ से दाएँ
प्रहरी १ Garde 1 C’est pourquoi dans cette galerie déserte,
sans but,
sans but,
nous avons toujours continué à déambuler
de droite à gauche,
et de gauche à droite.
मरने के बाद भी
यम के गलियारे में
चलते रहेंगे सदा
दाएँ से बाएँ
और बाएँ से दाएँ !
प्रहरी २ Garde 2 Même après la mort,
dans les galeries de Yama,
nous continuerons toujours à déambuler
de droite à gauche,
et de gauche à droite.
(चलते-चलते विंग में चले जाते हैं। स्टेज पर अँधेरा धीरे-धीरे पटाक्षेप के साथ) Ils marchent et disparaissent dans les coulisses. La scène s’obscurcit pendant que le rideau tombe.
कथा गायन Chant narratif
आसन्न पराजय वाली इस नगरी में
सब नष्ट हुई पद्धतियाँ धीमे-धीमे
यह शाम पराजय की, भय की, संशय की
भर गए तिमिर से ये सूने गलियारे
जिनमें बूढ़ा झूठा भविष्य याचक-सा
है भटक रहा टुकड़े को हाथ पसारे
अन्दर केवल दो बुझती लपटें बाकी
राजा के अन्धे दर्शन की बारीकी
या अन्धी आशा माता गान्धारी की
वह संजय जिसको यह वर्दान मिला है
वह अमर रहेगा और तटस्थ रहेगा
जो दिव्य दृष्टि से सब देखेगा समझेगा
जो अन्धे राजा से सब सत्य कहेगा।
जो मुक्त रहेगा ब्रह्मास्त्रों के भय से
जो मुक्त रहेगा उलझन से, संशय से…
वह संजय भी
इस मोह-निशा से घिर कर
है भटक रहा
जाने किस
कंटक-पथ पर।
Dans cette cité proche de la défaite,
toutes les traditions se sont corrompues peu à peu,
un crépuscule de défaite, de terreur et de doute règne…
Ces galeries désertes sont plongées dans l’obscurité
où l’Avenir, tel un vieux mendiant félon,
erre, la main tendue, quémandant une bouchée.
Seuls demeurent deux lueurs évanescentes :
l’étroitesse de la vision aveugle du roi
et l’espoir aveugle de Mata Gandhari.
Sandjay, qui a reçu le don,
il est immortel et atteindra la rive.
Celui qui, doué de la vision divine, voit tout, comprend tout,
celui-là dira toute la vérité au roi aveugle.
Celui qui est libre de la crainte des armes célestes de Brahma
celui qui est libre de tourments et de doutes,
même lui, Sandjay,
plongé dans cette nuit de l’attachement
erre,
qui sait
sur quel chemin d’épines…