Sampooran Singh Gulzar
Sampooran Singh Gulzar

Sampooran Singh Gulzar
वो जो इक मीयाद थी ना

Quelques informations sur Gulzar :

Ce poème est extrait du recueil (bilingue hindi-anglais) : Neglected Poems

वो जो इक मीयाद थी ना La date de péremption
Sampooran Singh Gulzar Traduction : Francine de Perczynski
वो जो इक मीयाद थी ना
इस्तेमाल की-
वो गुज़र चुकी !!
दवा की शीशियों पे लिखी जाती है इसी लिए मीयाद बाद इस्तेमाल करने से
दवाइयां भी बासी होने लगती हैं
फिर कोई इलाज कर नहीं पाती (सकतीं)
फिर भी तर्क न हुई तो ज़हर बनने लगती हैं
Vous savez cette date de péremption,
D’utilisation…
Ella a expiré !
On l’inscrit sur les flacons des médicaments car une fois la date dépassée, si on l’utilise
La potion même commence à pourrir.
Alors elle ne peut plus soigner
Et si on ne s’en débarrasse pas, alors elle devient du poison.
बासी हो चुके मज़हबो के ए'तक़ाद सब-
वो जो इक मीयाद थी ना, इस्तेमाल की
वो गुज़र चुकी!
Toutes les valeurs qui animent les religions sont pourries,
Vous savez, cette date de péremption, d’utilisation…
Elle a expiré !