Sampooran Singh Gulzar
Sampooran Singh Gulzar

Sampooran Singh Gulzar
उस कलसी का पेंदा नहीं है

Quelques informations sur Gulzar :

Ce poème est extrait du recueil (bilingue hindi-anglais) : Neglected Poems

उस कलसी का पेंदा नहीं है Cette cruche n’a pas de fond
Sampooran Singh Gulzar Traduction : Francine de Perczynski
उस कलसी का पेंदा नहीं है
जिस कलसी को दरिया में हर रोज़ डुबो कर
पानी भर के लाता हूँ
और अपनी क्यारियाँ सींचता हूँ
Elle n’a pas de fond
Cette cruche que je plonge
Dans la rivière chaque jour
pour prendre de l’eau et arroser mes plantes.
पेंदा नहीं है उस लोटे का
जिस लोटे से गंगा घाट पे बैठ के रोज़ नहाता हूँ
और ख़ुश्क बदन को पोंछ के मैं, पोशाक बदल लेता हूँ
Il n’a pas de fond, ce pichet
Que j’utilise chaque jour pour mes ablutions, assis sur le ghât du Gange,
Avant de sécher mon corps et changer de vêtements.
बिन पेंदे के डोल से मैं
रोज़ कुंए से पानी खींच के
बाकी बर्तन भरने की कोशिश करता हूँ
सब भांडे प्यासे रहते हैं
C’est aussi avec un seau sans fond
que chaque jour, je puise l’eau du puits
Pour tenter d’en remplir d’autres ustensiles :
Tous ces récipients demeurent assoiffés.
बिन पेंदा हैं नाम ख़ुदा के
उनमें अब ईमान नहीं भरता!
Sans fondement sont les noms de Dieu :
On ne peut plus les remplir de vénération ou de foi !