Javed Akhtar
Javed Akhtar

Javed Akhtar
जुर्म और सज़ा

Consultez le site consacré à Javed Aktar.

Poème extrait du recueil tarkash (carquois), publié pour la première fois en ourdou en 1995.

Écoutez ce poème, lu en français par Annette Mouret.

जुर्म और सज़ा Crime et châtiment
Javed Akhtar Traduction : Ghania et Sophie-Lucile Daloz
हाँ गुनहगार हूँ मैं
जो सज़ा चाहे अदालत देदे
आपके सामने सरकार हूँ मै
Oui, je suis coupable !
Qu’importe la sentence de la cour,
Je suis là, devant vous, justice.
मुझको इकरार
कि मैंने इक दिन
ख़ुद को नीलाम किया
और राज़ी-बरज़ा
सरेबाज़ार सरेआम किया
मुझको क़ीमत भी बहुत ख़ूब मिली थी लेकिन
मैंने सौदे में ख़यानत कर ली
यानी
कुछ ख़्वाब बचाकर रक्खे
मैंने सोचा था
किसे फ़ुरसत है
जो मेरी रूह मेरे दिल की तलाशी लेगा
मैंने सोचा था
किसे होगी ख़बर
कितना नादान था मैं
ख़्वाब
छुप सकते हैं क्या
रौशनी
मुट्ठी में रुक सकती है क्या
वो जो होना था
हुआ
आपके सामने सरकार हूँ मैं
जो सज़ा चाहे अदालत देदे
फ़ैसला सुनने को तैयार हूँ मैं
हाँ गुनहगार हूँ मैं
Oui, c’est vrai,
Un jour,
Je me suis, moi, mis aux enchères
Avec le consentement de tout mon être.
Je me suis, moi, exposé sur la place du marché au vu et au su de tous.
J’ai tiré de moi-même un très bon prix, mais
Dans ce commerce, je fus déloyal,
Je veux dire…
J’ai conservé quelques rêves.
J’avais songé,
Mais qui donc aurait le loisir
De scruter mon âme, mon cœur ?
J’avais songé,
Qui le saurait ?
Quelle naïveté !
Les rêves,
Peut-on les cacher ?
La lumière,
Peut-on la contenir au creux d’un poing fermé ?
Ce qui devait être,
Fut.
Je suis là, devant vous, justice.
Qu’importe la sentence de la cour,
Je suis prêt à entendre son verdict.
Oui, je suis coupable !
फ़ैसला ये है अदालत का
तेरे सारे ख़्वाब
आज से तेरे नहीं हैं मुजरिम !
ज़हन के सारे सफ़र
और तेरे दिल की परवाज़
जिस्म में बहते लहू के नग़मे
रूह का साज़
समाअत
आवाज़
आज से तेरे नहीं हैं मुजरिम !
वस्ल की सारी हदीसें
ग़मे हिज़ाँ की किताब
तेरी यादों का गुलाब
तेरा एहसास
तेरी फ़िक्रो नज़र
तेरी साअतें
सब लम्हे तेरे
रोज़ो-शब शामो-सहर
आज से तेरे नहीं हैं मुजरिम
ये तो इन्साफ़ हुआ तेरे ख़रीदारों से
और अब तेरी सज़ा
तुझे मरने की इजाज़त नहीं
जीना होगा
Voici le verdict de la cour :
« Tous tes rêves,
Dorénavant ne t’appartiennent plus, scélérat !
Tous les vagabondages de ton âme,
Les élévations de ton cœur,
Les chants du sang voyageant dans ton corps,
La musique de tout ton être,
Ton oreille,
Ta voix,
Ne t’appartiennent plus dorénavant, scélérat !
Les élégies des rencontres amoureuses,
Le livre du tourment de la séparation,
La rose de la réminiscence,
Ta sensibilité,
Tous tes songes,
Tes révélations,
Toutes tes secondes,
Tes jours, tes nuits, tes soirs et tes matins,
Dorénavant ne t’appartiennent plus, scélérat !
Ainsi, justice est faite à tes acquéreurs.
Et maintenant, voici ton châtiment :
Il ne t’est pas permis de mourir,
Tu es condamné à vivre. »