Tripurari Sharma
Tripurari Sharma, en compagnie de Jyoti Garin

Tripurari Sharma
काठ की गाड़ी

Une biographie de l’auteure, professeure au National School of Drama est disponible en anglais sur World’s People Blog.

Pièce de théâtre en 9 scènes, traduite en anglais (cf. couverture ci-dessous). Le texte présenté ici est celui de l’édition originale en hindi.

Drama contemporary - India

Le texte reproduit ci-dessous a été lu en public le 27 mai 2010 à Aix-en-Provence. Voir l’afficheAcrobat.

पात्र Personnages
चौकीदार
मेहतर
कासिम
पण्डा
आदमी
औरतें
अभिनेता
सूत्रधार
मदन
कनु
ननंद
भाभी
व्यक्ति
बुढ़िया
बूढ़ा
गाँव वाले
पति
मीरा
प्रभा
अनुज
रोशन
नारायण
अनेमा
ज्योतिषी
अफ़सर
भीड़
Le gardien
Le balayeur
Kasim
Un officiant
Un homme
Des femmes
Les acteurs
Le narrateur
Madan
Kenou
Belle-sœur 1 (sœur du mari)
Belle-sœur 2 (femme du frère)
Membre de l’auditoire
Une vieille femme
Un vieillard
Des villageois
Le mari de Kenou
Mira
Prabha
Anoudj
Roshan
Narayan
Anémma
Des astrologues
L’agent de police
La foule
काठ की गाड़ी La carriole en bois
Auteur : Tripurari Sharma Traduction : Jacqueline Cassé, Annie Heulin, Claire Vincent et Jyoti Garin
पहला अंक Scène 1
(खुला सा मंच जिसके तीन या चार दर्शक हैं। उनके बीच से कुछ रास्ते बीच मंच तक जाते हैं - खास तौर से एक बड़ा सा रास्ता। उस पर मेहतर झाड़ू लगा रहा है। पानी भरने वाला पानी ले जा रहा है। पृष्ठ भूमी में लोकनाथ का मंदिर। सुबह का समय है। कासिम - कुष्ठ रोगी - महीन सफ़ेद कपड़े बिछाकर उन पर पत्थर रख रहा है। तभी मोटे से कम्बल में अपने आप को छिपाए, मदन धीरे-धीरे आता है। वह भीतर ही भीतर उत्तेजित है।) Une scène d’extérieur avec trois ou quatre spectateurs. Au milieu d’eux, plusieurs allées mènent à la scène, en particulier, une grande allée, qu’un balayeur nettoie. Un porteur d’eau passe avec sa charge d’eau potable. À l’arrière-plan, le temple de Loknath1. C’est le matin. Kasim, un lépreux, étale de fins tissus blancs et les maintient au sol avec des pierres. Se cachant derrière une épaisse couverture, Madan avance lentement. Il est tout excité.
(मेहतर से) लोकनाथ की सवारी यहीं से निकलती है न ? मदन Madan (Au balayeur) C’est bien d’ici que part la procession du Seigneur Loknath, non ?
हाँ साहब (मदन एक ओर हट जाता है। लोगों की भीड़ जमा होने लगती है। तभी मंदिर के चौकीदार का प्रवेश।) मेहतर Le balayeur Oui, M’sieur. (Madan s’écarte. Une foule commence à se rassembler. Le gardien du temple entre.)
(मेहतर से) अभी तक झाड़ू तक नहीं दिया गया ? लोग-बाग आ चुके हैं… सवारी का टाइम हो गया… और यहाँ… चौकीदार Le gardien (Au balayeur) Quoi ! C’est pas encore balayé ici ? Les gens sont déjà là… c’est l’heure de la procession… ici, c’est…
मैं तो कुछ कर भी रहा हूँ… और तुम ? मेहतर Le balayeur Moi, au moins, je me rends utile… mais toi ?
ज़्यादा बात मत बना, काम कर। समझा ? (कासिम से) क्या समझजता है… यहाँ झाड़ू तेरे भीख माँगने के लिये दिया जा रहा है ? (बिछाए हुए कपड़े को उठाकर कासिम एक तरफ़ खड़ा हो जाता है। कुछ देर बाद उन्हें फिर बिछाने लगता है।) सुना नहीं साले ? भाग यहाँ से। बाहर जाके बैठ। (अपने से) इनका बस चले तो सीधे मंदिर में ही चले आएं। चौकीदार Le gardien Arrête ton char, et au boulot ! Pigé ? (À Kasim) Qu’est-ce que tu crois… qu’on balaye ici pour que toi, tu puisses mendier ? (Kasim ramasse un tissu par terre et se tient debout dans un coin. Quelques instants plus tard, il recommence à l’étaler.) T’as pas entendu ? Dégage, espèce de salopard ! Va-t’asseoir ailleurs ! (En aparté) Si on les laissait faire, ça rentrerait jusque dans le temple !
क्यों पिछला हफ़्ता नहीं मिला ? मेहतर Le balayeur Qu’est-ce que tu as ? T’as pas eu ton fric de la semaine dernière ?
इनसे मैं हफ़्ता लूंगा। मेरा बस चले तो- चौकीदार Le gardien Prendre leur fric ? Si c’était moi qui décidait…
(हँसकर मैं) भी अछूत हूँ - मेरे हाथ का पानी नहीं पियेगा - पर काम दिलाने का हिस्सा नहीं छोड़ता (चौकीदार उसे घूरता है) आ - मार - मार उसके लिये भी हाथ लगाना पड़ता (है कासिम हँसता है) मेहतर Le balayeur (En riant) Moi aussi, je suis un intouchable… Il n’acceptera pas l’eau de ma main, mais ça le gêne pas de toucher sa part sur mon fric. (Le gardien lui lance un regard furieux.) Allez, viens, frappe-moi, vas-y ! Mais pour ça, il faudra me toucher. (Kasim rit.)
तुम जैसों को लाइन में खड़ा करके एक-एक करके गोली से क्यों नहीं उड़ा दिया जाता ? सुना है, फ़ौज में बेकार घोड़ों के साथ यही होता है- चौकीदार Le gardien Les gens comme vous, pourquoi on les met pas en rang et on les fusille pas tous, un par un ? Paraît que dans l’armée, c’est ce qu’on fait avec les vieux bourrins…
फिर भले लोग दान कैसे देंगे ? मेहतर Le balayeur Mais alors, les gens bien, à qui ils vont faire la charité ?
(इस बीच मंच पर कुछ और लोग आ चुके हैं। उनमें सिक्कों का व्यापारी भी है - कासिम उसे चेंज देकर रुपए लेता है। कुछ लोग रुपए देकर रेज़गारी खरीद लेते हैं। तभी पण्डा आता है।) Pendant ce temps, d’autres personnes se sont rassemblées sur scène. Parmi eux, il y a aussi un changeur de monnaie. Kasim échange des pièces contre des billets. D’autres font l’inverse. Un officiant entre.
दर्शन करेंगे साहब ? बस इक्यावन रुपया, बढ़िया दर्शन करवाऊंगा साहब, देवता के एकदम पास ले जाकर, कोई दिक्कत नहीं होगी ; पाँव छू सकेंगे… पण्डा L’officiant Vous voulez un darshan, une audience, Monsieur ? Pour cinquante et une2 roupies seulement, un excellent darshan, Monsieur, tout près du Dieu, no problem ; vous pourrez même Lui toucher les pieds…
(कासिम से) नोट मिल गया ? (कासिम अनसुना करना चाहता है पर चौकीदार उसके पीछे पड़कर अपना हफ़्ता ले लेता है।) चौकीदार Le gardien (À Kasim) Alors, t’as eu ton billet ? (Kasim fait semblant de ne pas entendre, mais le gardien le rattrape et lui prend sa paye de la semaine.)
(किसी दूसरे व्यक्ति से) कहाँ से आए साहब ? शहर का नाम बताइये - बाप का नाम - बाकी हम बताएंगे… पण्डा L’officiant (À un autre homme) D’où êtes-vous, Monsieur ? Dites-moi juste le nom de votre ville… de votre père… et le reste, c’est moi qui vous le dirai !
अभी जल्दी है… (फूल-प्रसाद बेचने वालों का शोर) आदमी Un homme Je suis pressé… (Cris des vendeurs de fleurs et des marchands d’offrandes rituelles)
(बड़बड़ाते हुए) आरती का टाइम हो गया और भगवान नहीं जागे ? पण्डा L’officiant (En marmonnant) C’est l’heure de la prière du matin, et le dieu n’est pas encore réveillé ?
सवारी कितनी देर में निकलेगी ? औरत Une femme La procession partira dans combien de temps ?
क्या भरोसा। पण्डा L’officiant Allez savoir !
(तभी पीछे से शोर। कुछ लोग लोकनाथ (शिव) की सवारी खींचकर ला रहे हैं - साथ में भजन गा रहे हैं। उसके पीछे एक आदमी चला आ रहे है। यह नाटक का सूत्रधार है और नाटक मण्डली का संचालक-र्देशक भी।) Juste à ce moment-là, on entend du bruit au fond de la scène. Quelques personnes marchent en procession et tirent un char transportant le Seigneur Loknath. Ils psalmodient des chants dévotionnels. Derrière la foule, un homme se fraye un chemin parmi les spectateurs. Il est à la fois le narrateur de la pièce et le directeur de la troupe de théâtre.
बाबा लोकनाथ के चरणों में सेवा लागे!
हेरे कैलाशपति के चरणों में सेवा लागे! बम, बम, बम, महादेव बम बम बम! हे!
भोलेदेव के चरणों में सेवा लागे; त्रिलोकनाथ के चरणों में सेवा लागे!
बम, बम, बम, महादेव, बम, बम, बम
भोला बाबा, पार करेगा भोला बाबा, पार करेगा,
बम, बम, बम, महादेव, बम, बम, बम…
भीड़ La foule Baba Loknath, nous sommes à tes pieds, nous, tes serviteurs !
Ô Seigneur Kailash, nous sommes à tes pieds, nous, tes serviteurs ! Bam-bam-bam ! Mahadév, bam-bam-bam !
Hé ! Bholédév, nous sommes à tes pieds, nous, tes serviteurs ! Seigneur des trois mondes, nous sommes à tes pieds, nous tes serviteurs !
Bam, bam, bam Mahadév, bam, bam, bam !
Bholababa, il sera notre passeur, Bholababa. Il nous fera traverser l’océan de la vie !
Bam, bam, bam, Mahadév, bam, bam, bam…
(शंख, ढोल और आवाज़ों के गुंजन से माहौल में उत्तेजना भर जाती है ; लोग रथ की परिक्रमा करने लगते हैं ; कुछ सड़क पर लेट जाते हैं ; दूर से नारायण हाथ के बल खींचने वाली गाड़ी में बैठकर उसे जल्दी-जल्दी चलाते हुए पास आता है ; उसके मुँह से ‘जय महादेव’ बार-बार निकलता है। उसके पीछे-पीछे अन्नेमा आती है।दोनों बूढ़े और कुष्ठ रोगी रह चुके हैं। कासिम उनके पास आता है और ज़मीन पर अल्यूमिनियम का कटोरा बजाने लगता है। भीड़ का जोश बढ़ता है ; अनेम्मा भी धीरे-धीरे झूमने लगती है और बार-बार अपना सिर ज़मीन पर पटकती है। मदन जो चुपचाप देख रहा था, सहसा… अपने जूते उतारकर, रथ के ऊपर रखे शिवलिंग को घूरने का प्रयास करता है।) Au son des conques, des tambours et des voix, une ferveur religieuse s’élève. Quelques fidèles commencent à faire une circumambulation autour du char ; d’autres se prosternent sur la route. De loin, Narayan s’approche dans une carriole de fortune3 à la force des bras. Il psalmodie en continu « Jaya Mahadév ! ». Anémma le suit. Tous les deux sont vieux et sont d’anciens lépreux. Kasim s’approche d’eux et commence à faire tinter son bol en aluminium contre le sol. La foule est transportée. Anémma aussi commence à se balancer et se frappe ostensiblement la tête contre le sol. Soudain Madan, qui observait tout cela tranquillement, se déchausse et tente d’apercevoir le Shiva-linga4 tout en haut du char.
(उसके जूते को घूरता है ; फिर कुछ समझकर) अरे - पकड़ो उसको ! कोढ़ी ! कोढ़ी - अंदर घुस आया रथ पे… पकड़ो उसे। (लोगों में खलबली – मदन इधर-उधर भागकर रथ में छिप जाता है ; लोग उसे बाहर ढूंढ़ते रहते हैं। तभी मंच के एक कोने में दो अभिनेता दर्शकों की प्रतिक्रिया देखकर मज़ा ले रहे हैं।) चौकीदार Le gardien (Il fixe les chaussures de Madan ; il comprend alors.) Hé ! Attrapez-le !… C’est un lépreux ! Un lépreux s’est introduit ici… Attrapez-le ! (Une confusion s’ensuit… Madan court d’un côté et de l’autre. Il se cache à l’intérieur du char ; les gens le cherchent dehors. À cet instant, deux acteurs, debout dans un coin de la scène, gloussent en voyant les réactions des spectateurs.)
अबे देख। इनकी नाक-भवें कैसे सिकुड़ गईं- अभिनेता 1 Acteur 1 Hé, regarde ça ! Comment ils ont le nez pincé et les sourcils froncés !…
कमीज़ झाड़ने लगे !… उन्होंने साड़ी और समेट ली। अभिनेता 2 Acteur 2 Ils ont brossé leurs manches de chemises !… et elles, comme elles s’enveloppent et réajustent leur sari autour d’elles.
इन्हें भी तो देख ! लगता है जी घबराने लगा। अभिनेता 1 Acteur 1 Tiens, et regarde ceux-là ! On dirait qu’ils sont terrifiés !
साहब घड़ी देखने लगे ? लागता है यह नातक लोगों को पसंद नहीं आएगा। (सूत्रधार से) जनाब ज़रा स्टेज क्लीर करवाइये। अभिनेता 2 Acteur 2 Monsieur regarde sa montre ? On dirait que cette pièce ne va pas leur plaire. (Au narrateur) Monsieur, faites dégager la scène, s’il vous plaît !
क्यों, क्यों, क्या हुआ ? (अन्य अभिनेता अपनी भूमिका छोड़कर खड़े हो जाते हैं) सूत्रधार Le narrateur Pourquoi, comment ça, qu’est-ce qui se passe ? (Les autres acteurs s’interrompent et se mettent debout.)
शश… दर्शक रेस्टलेस हो रहे हैं… अभिनेता 1 Acteur 1 Chut !… les spectateurs s’impatientent…
(डाँटते हुए) कर दिया न कबाड़ा (दर्शकों से) नाटक तो शुरू हो चुका। आपने देखा मदन कैसे लोकनाथ के पाँव छूना चाहता था, पर भीड़ का गुस्सा देखकर उसे छिपना पड़ा… सूत्रधार Le narrateur (Sermonnant) Regardez, vous êtes en train de tout gâcher ! (Aux spectateurs) En fait, la pièce a déjà commencé. Vous avez vu comment Madan voulait toucher les pieds du Seigneur Loknath, mais il a dû se cacher, confronté à la colère de la foule…
नायक चुना भी तो कोढ़ी ! अभिनेता 1 Acteur 1 Ah, quel choix de héros… un lépreux !
इसमें कितना डर और नफ़रत हैं। सूत्रधार Le narrateur Prenez justement ce mot… « lépreux ». Comme il provoque la haine et la peur !
ज़रा संभल कर, दिल्ली शहर के लोग हैं – शिष्ट, साफ़, सुथरे। अभिनेता 2 Acteur 2 Attention ! Ces gens-là sont de Delhi… des gens bien, propres sur eux et tout…!
सबसे वहमी कौम ! (दर्शकों से) अभी जो यहाँ हुआ जो आपने देखा - उसके बारे में आपका क्या मत है ? सूत्रधार Le narrateur Des plus superstitieux, vous voulez dire ! (Aux spectateurs) Ce qui vient d’arriver ici, ce que vous avez vu… qu’en pensez-vous ?
गली-बाज़ारों में रोज़ देखते हैं और टाल देते हैं - उससे मत का पता नहीं चलता ? अभिनेता 1 Acteur 1 Ils voient ça tous les jours, dans les ruelles, dans les bazars, et ils ferment les yeux… et cela ne vous dit rien de ce qu’ils pensent ?
लोगों को अपना बखान सुनने बुलाया है ? अभिनेता 2 Acteur 2 Hé… vous avez invité les spectateurs pour qu’ils écoutent votre exposé !
दर्शक हमारे मेहमान – (तभी दरशकों में से एक व्यक्ति उठके आगे बढ़ता है) सूत्रधार Le narrateur Les spectateurs sont nos hôtes… (Un membre de l’auditoire se lève et s’avance.)
इक्सक्यूज़ मी, मैं आपसे पूछना चाहता हूँ - ये भजन-कीर्तन किस लिये रखा गया ? व्यक्ति Membre de l’auditoire Excusez-moi, je voudrais vous demander quelque chose… Pourquoi ce prêchi-prêcha ?
रख लिया सो रख लिया ! अभिनेता 1 Acteur 1 Parce que !
उसके पीछे क्या दर्शन है – (नाटक का ब्रोशर दिखाते हुए) एक तरफ़ आप वैज्ञानिक दृष्टिकोण की बात करते हैं - दूसरी तरफ़ उसी दृष्टिकोण की प्रस्तुति में कीर्तन ठूँस देते हैं- व्यक्ति Membre de l’auditoire C’est quoi le concept derrière tout ça ? (Montrant le programme de la pièce) D’un côté, dans votre programme, vous annoncez un point de vue rationnel, et de l’autre, vous introduisez des kirtans5 religieux dans ce même point de vue !…
औपचारिकता है। सभी आधूनिक नाटक ऐसे ही शुरू होते हैं - कटम्पररी तरीका है। अभिनेता 2 Acteur 2 C’est une thérapie… Toutes les pièces modernes commencent ainsi… C’est le style contemporain…
कटम्पररी नहीं, साईंटिफ़िक की बात कर रहा हूँ। व्यक्ति Membre de l’auditoire Je ne parle pas du style contemporain, mais d’un point de vue rationnel.
अब यही सवाल। शुरुआत कहाँ से की जाए। अपनी अंग्रेज़ी तालीम से या संस्कारों से- सूत्रधार Le narrateur L’éternelle question ! Par où devons-nous commencer ? Par notre éducation anglaise, rationnelle ? Ou bien, par nos propres rites culturels…
संस्कार या अंधविश्वास ? व्यक्ति Membre de l’auditoire Rites traditionnels ou obscurantisme ?
चलो, व्यहवहार के वह तरीके जो हमें अपने माहौल से मिले उन्हें कैसे भुला दें ? सूत्रधार Le narrateur Qu’importe ! Comment oublier ces qualités que nous avons acquises successivement, de notre propre environnement culturel ?
(व्यक्ति से) शो के बाद निपट लेना। अभिनेता 1 Acteur 1 (À celui qui vient de parler) Vous réglerez ça après la représentation !
(सूत्रधार से) खामखाँ की बहस। वह भी दर्शकों के सामने… अभिनेता 2 Acteur 2 (Au narrateur) C’est un débat inutile ! Qui plus est, devant les spectateurs…
दर्शकों में कैसा छिपाव। वह और हम अलग दुनिया में नहीं रहते हैं। दोस्तो, कुछ साल पुरानी बात है। छोटे शहर है। मकान अपना घर का था पर आमदनी कम थी। ऊपर थियेतर का शौक ; आप समझ ही सकते हैं - मुझे पार्ट-टाईम कम्पाउण्डरी का काम मिला- महारोग लेपरसी की फ़ील्ड में। पहले पहल मुझे भी अजीब लगा था… कुष्ठ के बारे में जो आम धारणाएं हैं… मुझमें भी थीं। धीरे-धीरे इस रोग और कुष्ठ-रोगियों के बारे में भी जानकारी बढ़ी और उसका असर हुआ। ऊन दिनों जो लोग मिले, उनमें से मदन और कनु के बारे में आप को बताना चाहता हूँ। एक दौर से गुज़रने के बाद, दोनों अब ठीक हैं… मदन को आप एक खास स्थिति में देख ही चुके हैं… और अब कनु !… (दर्शकों के बीच से कनु उठकर मंच पर आती है एक शॉल ओढ़े हुए है) सूत्रधार Le narrateur Nous n’avons rien à cacher à notre auditoire. Eux et nous, nous ne vivons pas dans des mondes séparés ! Mes amis, mon récit date de quelques années. Le cadre : une petite ville. Un foyer : le mien. L’argent : rare… Et par-dessus tout, il y avait ma passion pour le théâtre ; vous pouvez imaginer ce que ça implique… J’ai trouvé un job à temps partiel comme assistant médical dans un centre de lépreux. Au début, moi aussi, je trouvais ça étrange. Tous ces préjugés sur la lèpre… je les avais, moi aussi, mais, petit à petit, j’ai appris à connaître aussi bien la maladie que les malades, et cela a eu un effet considérable sur moi. Parmi les gens que j’ai rencontrés à l’époque, je voudrais vous raconter l’histoire de Madan et de Kenou. Ils avaient contracté la maladie, et maintenant, ils sont guéris tous les deux… Madan, vous l’avez déjà vu dans une situation très délicate… Et voici maintenant, Kenou ! (Assise au milieu des spectateurs, Kenou se lève et se dirige vers la scène ; elle porte un châle.)
माँ कैसी है ? तुमसे मिलकर खुश हुई ?     Alors, comment va ta maman ? Elle était contente de te voir ?
हाँ… कनु Kenou Oui.
पति ? बच्चा ? (झेंप मिटाने के लिये) सूत्रधार Le narrateur Et le mari ? Et les enfants ? (Essayant de dissiper l’embarras de Kenou.)
वहाँ नहीं गईं। फ़ुर्सत नहीं मिली… कनु Kenou J’y suis pas allée. J’ai pas eu le temps !…
तुम अपने मुक़ाम पर पँहुच गईं (दर्शकों की ओर इशारा करके) इन्हें नहीं बताओगी ? सूत्रधार Le narrateur Tu as atteint ton but. (Montrant les spectateurs) Ne veux-tu pas leur raconter tout cela ?
सबके सामने क्यों पूछ रहे हो? ओह, नाटक दिखाना चाहते हो, रंगीन जज़बातों से खचाखच भरा ? कनु Kenou Pourquoi tu me demandes ça devant tout le monde ? Ah, d’accord ! Tu veux leur montrer une pièce de théâtre, faire pleurer dans les chaumières ?
मजबूर नहीं करूंगा पर चुप्पी से इतना लगाव क्यों ? इनके जान लेने में नुकसान नहीं है। सूत्रधार Le narrateur Je ne te force pas, mais pourquoi être complice de ce silence ? Il n’y a aucun mal à ce qu’ils sachent.
(झिझक से) सब तो मुश्किल है। मैं रोना नहीं चाहती। कनु Kenou (Hésitant) Tout ça est si difficile ! Et je ne veux pas pleurer.
रुक रुककर बाकी खुद समझ लेंगे। सूत्रधार Le narrateur Commence doucement… Le reste, ils le comprendront d’eux-mêmes.
(दर्शकों से) अब घर पर, मतलब अपने पीहर में रहती हूँ… वह दिन, वह साथी बहुत प्यारे हैं, देखिये अब तक बिखराव है। कहाँ से शुरू करूँ ? कनु Kenou (Aux spectateurs) Je vis à la maison maintenant… c’est-à-dire… avec mes parents… à l’époque… ces amis, je les aimais beaucoup !… Voyez, tout ça est si embrouillé !… Par où commencer ?
चलिये कनु से, प्रस्तुतु की दूसरी पात्र ; बंगाल के पिछड़े गाँव में रहती थी। शादी को साल हो चुके थे और गोद में मुन्ना था। बड़ा-सा घर - बहू-बेटियों से भरा हुआ… सूत्रधार Le narrateur Commençons par Kenou, le deuxième personnage de notre pièce. Elle vivait dans un village reculé du Bengale. Mariée depuis quelques années, elle avait encore un bébé aux bras ; une grande maison, remplie de sœurs et de belles-sœurs.
(कुछ अभिनेता रथ खीँचकर ले जाते हैं और बाकी लोग दो चार चीज़ों से - जिनमें बच्चे का पालना भी शामिल है - अगले दृष्य के लिये मंच तैयार करते हैं - कनु एक अभिनेता को अपना शॉल उतारकर पकड़ाती है - और घर के इलाके में प्रवेश करते है।) Quelques acteurs emportent le char en le tirant. Les autres préparent le tableau suivant en utilisant quelques accessoires, et notamment, un berceau. Kenou enlève son châle, le donne à un des acteurs et se dirige vers l’espace qui représente son quartier.
1 Loka-nātha (monde-protecteur), « Protecteur des mondes », épithète de divers dieux, du roi ou d’un souverain. Ici, du Dieu Shiva
2 Il est coutume d’offrir un nombre impair d’une somme d’argent.
3 Bricolée à la main avec quelques planches, la carriole mesure 45 cm de long. Elle est montée sur des roues de 10 cm de hauteur. Quand on a les pieds tailladés, on peut s’asseoir dessus et la faire avancer en s’appuyant sur ses mains. Pour se protéger, souvent, la personne tient un bâtonnet dans chaque main.
4 Symbole de Shiva : cylindre de pierre enchâssé dans un socle
5 Chants dévotionnels