Krishna Baldev Vaid
Krishna Baldev Vaid

Krishna Baldev Vaid
कहते हैं जिसको प्यार

Quelques références utiles :

पात्र Personnages
अखिल
सुजाता
गीता
सुमित
धीरू
Akhil
Soudjata
Guita
Soumit
Dhirou
कहते हैं जिसको प्यार Ce qu’on appelle l’amour
Krishna Baldev Vaid Traduction : Muriel Calvet et Jyoti Garin
(एक प्रोफ़ेसर के घर की बैठक, जिसमें बैठने के बजाय खड़े रहना ज़्यादा आसान लगता है। सुजाता खड़ी बन्द दरवाज़े की तरफ़ देख रही है। अखिल उसी दरवाज़े को धीरे से धकेलकर किसी अनाड़ी चोर की तरह अन्दर आता है तो सुजाता खिल उठती है।) (Un salon chez un professeur où il est plus facile de rester debout que de s’asseoir. Debout, Soudjata regarde vers la porte fermée. Doucement Akhil pousse cette porte et entre comme un voleur, et aussitôt, Soudjata rayonne de joie.)
आज आप कुछ जल्दी आ गए। सुजाता Soudjata Tu es venu bien tôt aujourd’hui !
गीता ने जल्दी आने को कहा था। अखिल Akhil Guita m’a demandé de venir tôt.
क्यों ? सुजाता Soudjata Pourquoi ?
क्या पता ! अखिल Akhil Qu’est-ce que j’en sais !
शादी के लिये दबाव डालना चाहती होगी। सुजाता Soudjata Elle doit vouloir faire pression sur toi pour le mariage.
मुझे भी यही खतरा है। अखिल Akhil C’est bien ce que je crains.
तब तो आपको देर से आना चाहिये था। सुजाता Soudjata Alors tu aurais dû venir tard.
तब तो मुझे आना ही नहीं चाहिये था। अखिल Akhil Alors je n’aurais pas dû venir du tout.
फिर आए क्यों ? सुजाता Soudjata Alors pourquoi es-tu venu ?
क्योंकि तुम्हारी दीदी का आदेश था। अखिल Akhil Parce que c’était l’ordre de ta sœur.
अगर अभी यह हाल है तो शादी के बाद क्या होगा ! सुजाता Soudjata Si c’est comme ça maintenant, qu’est-ce que ce sera après le mariage !
यही सोच-सोचकर सहमता रहता हूँ। अखिल Akhil À chaque fois que j’y pense, ça me rend malade.
मुझे आप पर दया आती है। सुजाता Soudjata Tu me fais pitié !
और कुछ नहीं ? अखिल Akhil Et rien d’autre ?
और बहुत कुछ भी आता है लेकिन क्या फ़ायदा उस सबका जब आपने दीदी के सामने घुटने टेक ही दिये। सुजाता Soudjata Et beaucoup d’autres choses, mais à quoi bon tout cela puisque Monsieur est déjà à genoux devant ma sœur.
मुझे बुलाकर वह ग़ायब है। कहाँ गई ? अखिल Akhil Elle m’a fait venir et puis elle a disparu. Où est-elle allée ?
धीरू दा के साथ। सुजाता Soudjata Avec Dhirou.
धीरू दा क्या हर वक़्त यहीं जमे रहते हैं ? अखिल Akhil Dhirou a pris racine ici ?
उनसे आपको कोई ख़तरा नहीं होना चाहिये। सुजाता Soudjata Tu n’as rien à craindre de lui.
तो किससे होना चाहिये ? अखिल Akhil Alors de qui ?
अपने आप से। और सुमित से। सुजाता Soudjata De toi-même. Et de Soumit.
सुमित से ? अखिल Akhil Soumit ?
हाँ, सुमित से। सुजाता Soudjata Oui, Soumit.
तो क्या वह भी यहीं जमा रहता है ? अखिल Akhil Alors, comme ça, lui aussi a pris racine ici ?
जमा तो नहीं रहता लेकिन जब आता है दीदी झूम उठती हैं। सुजाता Soudjata Il n’a pas pris raine ici, mais quand il vient, ma sœur se met à rayonner de plaisir.
अक्सर आता है ? अखिल Akhil Il vient souvent ?
अक्सर तो ख़ैर आप ही आते हैं। इसीलिये तो मैंने कहा सबसे बड़ा खतरा आपको अपने आप से ही होना चाहिये। सुजाता Soudjata En fait, il n’y a que toi qui viens souvent. C’est pour ça que je dis que le plus grand danger pour toi, c’est bien toi-même.
वह तो है ही। और वह हर इनसान को होना चाहिये, क्योंकि अपना सबसे बड़ा दुश्मन वह खुद होता है। अखिल Akhil Ça, c’est bien vrai. Et c’est tout à fait vrai pour chaque être humain, parce que le plus grand de tous les ennemis pour chacun, c’est soi-même.
औरों का मुझे पता नहीं, आप तो हैं। सुजाता Soudjata Pour les autres, je ne sais pas, mais pour toi, oui.
तुम्हारे मुँह से अपनी बुराई सुनकर मुझे बुरा क्यों नहीं लगता ? अखिल Akhil Quand c’est de ta bouche que j’entends mes défauts, je ne le prends pas mal. Je me demande bien pourquoi.
कभी आराम से सोचिये इस बात पर। सुजाता Soudjata Un jour, pense tranquillement à tout ça.
आराम से तो अब किसी भी बात पर सोच नहीं पाता। अखिल Akhil En ce moment, je n’arrive pas à penser tranquillement à quoi que ce soit.
आपका ये लाचारी का पोज़ मुझे तो अच्छा ही लगता है, दीदी को बिल्कुल नहीं। सुजाता Soudjata Quand tu poses au malheureux, moi j’aime bien. Ma sœur, pas du tout.
गीता को तो शायद ही मेरी कोई बात या आदत या हरकत अच्छी लगती हो। अखिल Akhil Je me demande même s’il y a quelque chose en moi, dans ce que je suis ou dans ce que je fais, que Guita aime.
अगर यह सच है तो वह आपसे शादी करने पर क्यों तुली हुई है ? सुजाता Soudjata Si c’est vrai, pourquoi est-elle décidée à t’épouser ?
काश कि मुझे मालूम होता ! अखिल Akhil Si seulement je le savais !
मुझे है। सुजाता Soudjata Moi, je le sais.
बताओ तो ! अखिल Akhil Alors dis-le !
बता दूँ ? सुजाता Soudjata Que je le dise ?
हाँ, हाँ। अखिल Akhil Oui, oui.
क्योंकि उसे ख़तरा है कि आप मुझसे उलझ जाएंगे या मुझे उलझा लेंगे आपने साथ। सुजाता Soudjata Parce qu’elle a peur que tu me prennes dans tes filets ou que moi je te prenne dans mes filets.
यह ख़तरा तो मुझे भी है। अखिल Akhil Moi aussi, j’en ai peur.
मुझे तो ख़ैर है ही। सुजाता Soudjata Ça, moi aussi.
मेरा ख़याल था तुम्हें कोई ख़तरा नहीं। अखिल Akhil Je pensais qu’il n’y avait aucun danger pour toi.
दीदी आपको खोना नहीं चाहती। सुजाता Soudjata Ma sœur ne veut pas te perdre.
कभी-कभी तो मुझे लगता है जैसे वह मुझे खा जाना चहती हो। अखिल Akhil Parfois j’ai même l’impression qu’elle veut me manger tout cru.
(वक़्फ़ा) (Silence)
तो आप कह क्यों नहीं देते साफ़-साफ़ कि आप अभी खा लिये जाने के लिये तैयार नहीं। सुजाता Soudjata Alors pourquoi tu ne dis pas clairement que tu n’es pas prêt à être mangé tout cru ?
ऐसी बातें तुम्हारी दीदी से नहीं कही जा सकतीं। अखिल Akhil Ces choses-là, on ne peut pas les dire à ta sœur.
मैं जानती हूँ इसीलिये तो हैरान होती हूँ कि आप क्यों शादी कर रहे हैं उससे। सुजाता Soudjata Je sais, c’est bien pour ça que je suis surprise que tu l’épouses.
कहाँ कर रहा हूँ ! अभी तो टाल ही रहा हूँ। अखिल Akhil Comment ça, je l’épouse ! Pour le moment, je repousse.
साफ़ इनकार क्यों नहीं कर देते ? सुजाता Soudjata Pourquoi tu ne refuses pas clairement ?
तुम क्यों चाहती हो कि साफ़ इनकार कर दूँ ? अखिल Akhil Pourquoi veux-tu que je refuse clairement ?
क्योंकि मैं आपको चाहती हूँ। सुजाता Soudjata Parce que tu me plais.
(वक़्फ़ा) (Silence)
हैरान होने की ज़रूरत नहीं। Inutile d’être surpris.
मैं हैरान नहीं हुआ। अखिल Akhil Je ne suis pas surpris.
डरने की ज़रूररत भी नहीं। मैं दीदी को नहीं बताऊँगी। सुजाता Soudjata Inutile d’avoir peur, non plus. Je ne le dirai pas à ma sœur.
वह जानती है। ज़रूर जानती होगी लेकिन मानती नहीं मानेगी नहीं। Mais oui, elle doit le savoir, mais elle ne l’accepte pas et elle ne l’acceptera pas.
क्यों नहीं ? अखिल Akhil Pourquoi pas ?
क्योंकि वह आपको खोना नहीं चाहती। आर उसके लिये वह यह ज़रूरी समझती है कि मुझे लेकर वह आपसे सीधी या साफ़ बात न करे। सुजाता Soudjata Parce qu’elle ne veut pas te perdre, et pour ça, elle juge nécessaire de ne pas parler ouvertement de moi avec toi.
लेकिन वह मुझे खोना क्यों नहीं चाहती ? अखिल Akhil Mais pourquoi est-ce qu’elle ne veut pas me perdre ?
क्योंकि वह आपको खा जाना चाहती है। सुजाता Soudjata Parce qu’elle veut te manger tout cru.
लेकिन मुझे क्यों ? और किसीको क्यों नहीं ? धीरू को क्यों नहीं ? सुमित को क्यों नहीं ? अखिल Akhil Mais pourquoi moi ? Pourquoi pas quelqu’un d’autre ? Pourquoi pas Dhirou ? Pourquoi pas Soumit ?
धीरू दा को वह खो चुकी है। आप जानते तो हैं कि धीरू दा अपनी बीवी बिमला पर जान देते हैं। सुजाता Soudjata Dhirou, elle l’a déjà perdu. Tu sais bien que Dhirou donnerait sa vie pour sa femme, Bimala.
मुझे धीरू दा के बारे में ज़्यादा मालूम नहीं। अखिल Akhil Je ne sais pas grand-chose sur Dhirou.
कह दिया न कि धीरू दा से अब आपको कोई ख़तरा नहीं होना चाहिये - मतलब कोई उम्मिद नहीं होनी चाहिये। सुजाता Soudjata Dhirou, elle l’a déjà perdu. Tu sais bien que Dhirou donnerait sa vie pour sa femme, Bimala.
(दोनों हँसते हैं।) (Les deux rient.)