L’empereur Akbar et son vizir Birbal
मेहरबान

मेहरबान Votre Grâce
  Traduction : Laure Terilli
बादशाह अकबर ने बीरबल से कहा – “जिन लोगों के नाम अथवा उपनाम के अन्त में वान या बान लगा होता है वे लोग आम तौर पर कोई छोटा काम करने वाले ही होते हैं – जैसे दरबान कोचवान आदि। तुम्हारा क्या विचार है इस बारे में बीरबल ?” L’Empereur Akbar dit à Birbal : « Les gens dont le nom ou le surnom se termine par –vâne ou –bâne1, sont généralement ceux qui exercent un petit métier, comme, les portiers, darbâne, les cochers, cotchevâne, etc. Quel est ton avis à ce sujet, Birbal ? »
आप बिलकुल सही फ़र्मा रहे हैं मेहरबान। बीरबल ने जवाब दिया। « Vous avez parfaitement raison, Meharbâne, Votre Grâce », répondit Birbal.
बीरबल का जवाब सुनकर बादशाह अकबर पहले तो चौंक पड़े। फिर हंसे बगैर नहीं रह सके। En entendant la réponse de Birbal, l’Empereur Akbar fut d’abord déconcerté. Ensuite, il ne put s’empêcher de rire.
1 Le suffixe vâne en hindi désigne le nom d’agent. Exemples en français : ien dans technicien, eur dans ingénieur, iste dans journaliste, ier dans plombier.