L’empereur Akbar et son vizir Birbal
एक आदमी तीन रूप

एक आदमी तीन रूप Trois en un !
Traduction : Jyoti Garin
एक दिन दरबार में बादशाह अकबर ने बीरबल से कहा – “कोई ऐसा आदमी दरबार में पेश करो जिसके तीन रूप हों।” “जी आलमपनाह, कल प्रातः आपके हुक्म की तामील हो जाएगी।” बीरबल ने जवाब दिया। Un jour, l’empereur Akbar dit à Birbal à la cour : « Présentez-moi un homme qui a trois formes. » « Oui, Protecteur de l’Univers, demain, à l’aube, votre ordre sera exécuté », répondit Birbal.
अगले दिन बीरबल दरबार में एक आदमी को लेकर आया और उसे एक प्याला शराब पिला दी। वह आदमी बोला – “हुज़ूर मुझे जाने दें, मुझे क्यों पकड़कर लाया गया है ?” “हुज़ूर यह इसका तोता रूप है।” Le lendemain, Birbal emmena un homme et lui offrit à boire une coupe de vin. L’homme dit : « Votre altesse, laissez-moi partir. Pourquoi m’a-t-on pris et emmené ici ? » « Votre altesse, voici sa forme perroquet. »
यह कहकर बीरबल ने एक प्याला शराब और दी, पीकर वह आदमी बोला – “हम दिल्ली के बादशाह हैं… तू कौन है, जो गद्दी पर बैठा है ?” En disant cela, Birbal offrit une autre coupe de vin. La buvant, l’homme dit : « Nous sommes l’empereur de Delhi ; mais toi enfin qui es-tu, assis sur le trône ? »
“हुज़ूर यह इसका शेर रूप है।” बीरबल ने कहा और उसके बाद उसे एक प्याला शराब और पिलाई। इतनी शराब पीने के बाद वह आदमी ठीक से खड़ा भी नहीं रह सका और गिर पड़ा। तब बीरबल बोला – “हुज़ूर, यह इस आदमी का गधा रूप है।” « Votre altesse, voici sa forme lion », dit Birbal ; puis il lui fit boire une autre coupe de vin. Après avoir bu autant de vin, l’homme ne put rester debout, il chancela et tomba raide. Alors Birbal dit « Votre altesse, voici la forme âne de cet homme. »
बीरबल की बुद्धिमत्ता पर प्रसन्न हुए बादशाह अकबर। L’empereur Akbar fut ravi de l’esprit de Birbal.

N.B. Cette histoire est la troisième partie de la dictée lue à l’occasion de la fête du Hindi Bhasha Divas à Marseille le 9 novembre 2013. Une version commentée peut être consultée sur la page correspondante.