L’empereur Akbar et son vizir Birbal
बीरबल की खोज

बीरबल की खोज À la recherche de Birbal
  Traduction : Isabelle Terilli, Laure Terilli et Véronique Pollot
दरबारियों की चुगलखोरी से परेशान होकर बीरबल अज्ञातवास पर चला गया। बादशाह अकबर ने उसकी बहुत खोज करवाई किन्तु नहीं मिला। उन्हें इतना तो यकीन था कि वह आसपास के किसी गाँव में छिपकर रह रहा है। किन्तु कहाँ… यह पता नहीं चल पा रहा था। Excédé par la médisance des courtisans, Birbal s’exila dans une résidence secrète. L’Empereur Akbar fit faire de nombreuses recherches, mais ce dernier resta introuvable. En tout cas, il était persuadé que Birbal vivait caché dans un village des environs, mais où…? Cela, il n’arrivait pas à le découvrir.
बीरबल के खोज के लिये बादशाह अकबर को एक तरकीब सूझी, उन्हें मालूम था कि बीरबल को उसकी बुद्धिमानी से ही खोजा जा सकता है। अतः उन्होंने अपने राज्य के सभी गाँवों के पंचायती सदस्यों को आदेश दिया के वे एक निश्चित दिन आधी धूप और आधी छाँव के साथ यमुना घाट के पास उपस्थित हों अन्यथा उन पर जुर्माना लगेगा। Pour débusquer Birbal, l’Empereur Akbar eut une idée : il savait qu’il pouvait retrouver Birbal par son intelligence même. C’est pourquoi il donna l’ordre aux membres des Conseils de tous les villages de son royaume de se présenter, en un jour donné, avec le ‘demi-soleil’ et avec la ‘demi-shadow’, près de la rive de la Yamuna, sous peine d’amende.
सभी गँवों के प्रतिनिधि निश्चित दिन निश्चित स्थान पर पंहुच गए किन्तु बादशाह के आदेश का पालन केवल गोकुलपुरा गाँव पंचायत के सदस्य ही कर सके, क्योंकि वे लोग सिर पर खाट रखकर वहाँ उपस्थित थे, जिसके कारण वे आधी धूप और आधी छाँव के साथ उपस्थित थे। बादशाह समझ गए कि बीरबल गोकुलपुरा में ही है। उन्होंने तसल्ली के लिये गोकुलपुरा में एक नया आदेश भेज दिया कि महल के कुंए ने गोकुलपुरा गाँव के कुंओं को अपनी शाही दावत में आमंत्रित किया है, अतः उस गाँव के स्मस्त कुंए दावत में हाज़िर हों। Tous les représentants de tous les villages rejoignirent l’endroit convenu, mais seuls les membres des Pantchâyates1 du village de Gokoulpoura purent exécuter l’ordre de l’empereur, car leurs lits de corde posés sur la tête, ils arrivèrent avec le ‘demi-soleil’ et la ‘demi-shadow’ ! L’Empereur Akbar comprit que Birbal se trouvait certainement à Gokoulpoura. Pour s’en assurer, il envoya un nouvel ordre à Gokoulpoura : les puits du village de Gokoulpoura sont invités par le puits du palais aux festivités impériales. Ainsi, que tous les puits de ce village se présentent au banquet.
उस संदेश के जवाब में राजदरबार में भी गाँव की ओर से संदेश पंहुचा – “गाँव के सभी कुंए महल के कुंओं के आमंत्रण पर खुश हैं, किन्तु वे चाहते हैं कि महल का कुंआ स्वयं आकर उन्हें आमंत्रित करे, तभी वे दावत में उपस्थित होंगे।” En réponse à ce message, à la cour de l’empereur, en provenance du village, un message arriva aussi. « Tous les puits du village sont heureux de l’invitation des puits du palais, mais ils souhaitent qu’un puits du palais, en personne, vienne les inviter, alors ils assisteront au festin. »
यह संदेश मिलते ही बादशाह अकबर को यकीन हो गया कि बीरबल गोकुलपुरा में ही है। वे वहाँ गए और पंचायत के लोगों से मिलकर पता किया कि उन्हें यह राय किसने दी। उनकी मदद से बादशाह बीरबल तक पंहुच गए और उसे गेले लगाकर बोले – बीरबल, तुम कहीं भी छिप जाओ किन्तु “तुम्हारी समझदारी नहीं छिप सकती… वह तुम्हारा भेद खोल ही देगी।” Ayant reçu ce message, l’Empereur Akbar fut certain que Birbal était bien dans le village de Gokoulpoura. Il s’y rendit et en rencontrant les gens de l’assemblée du village, il demanda que quelqu’un lui dise qui était l’émetteur de cette annonce. Grâce à leur aide, l’Empereur arriva jusqu’à Birbal et, en le prenant dans ses bras, lui dit : « Birbal, cache-toi où tu veux, mais ton intelligence, elle, ne peut être cachée… c’est elle qui révélera toujours ton secret. »
बीरबल मुस्कुराकर रह गया। Birbal était tout sourire.
1 Conseil de village composé de cinq sages