L’empereur Akbar et son vizir Birbal
चार मूर्ख

चार मूर्ख Quatre idiots
  Traduction : Sandrine Derien, Martine Gombert, Cécile Othello
बादशाह अकबर ने बीरबल को आदेश दिया कि वह चार मूर्खों को एक सप्ताह में दरबार में हाजिर करे… और वह चारों एक से बढ़कर एक होने चाहिए। L’empereur Akbar ordonna à Birbal de présenter à la cour dans un délai d’une semaine quatre idiots, tous plus idiots les uns que les autres.
आदेश मिलते ही बीरबल का मूर्ख खोजो अभियान शुरू हो गया।
इसी दौरान उसे एक आदमी मिला जो ढेर सारी मिठाइयां लेकर तेजी से चला जा रहा था।
बीरबल ने उसे रोककर पूछा- “क्यों भाई! यह मिठाइयां लेकर कहां जा रहे हो, क्या बात है?”
Sitôt l’ordre reçu, Birbal se lança à la recherche des idiots…
Entre temps, il rencontra un homme en train de marcher en toute hâte, ployant sous un tas de friandises
Birbal l’arrêta et lui demanda : « Alors frère ! Où vas-tu comme ça, portant ces douceurs ? Que se passe-t-il ? »
“मेरी पत्नी को अपने दूसरे पति से पुत्र उत्पन्न हुआ है, उसे बधाई देने जा रहा हूँ।” उसने जवाब दिया। « Ma femme vient d’accoucher d’un fils de son 2ème mari, je cours la féliciter » lui répondit-il.
बीरबल को वह आदमी मूर्ख नजर आया और उसे अपने साथ ले लिया। Aux yeux de Birbal, cet homme parut idiot et il l’emmena avec lui.
आगे बढ़ने पर उसे एक और व्यक्ति दिखाई दिया जो स्वयं तो घोड़ी पर बैठा था और घास का ढेर अपने सिर पर रखा हुआ था। Chemin faisant, il vit une autre personne qui elle était perchée sur une jument, un tas d’herbe juché sur la tête.
“भाई ! यह घास का ढेर तुमने अपने सिर पर क्यों रखा है?” « Frère ! Pourquoi ce tas d’herbe sur la tête ? »
“मेरी घोड़ी गर्भ से है, सारा भार घोड़ी पर न पड़े इसलिए खुद तो घोड़ी पर बैठा हूं और घास अपने सिर पर रख ली है।” « Ma jument est pleine. Pour qu’elle ne souffre pas sous le fardeau, je suis assis sur elle et c’est moi qui porte l’herbe sur ma tête »
बीरबल को वह आदमी भी मूर्ख लगा और उसने उसे भी अपने साथ ले लिया। Aux yeux de Birbal, cet homme aussi parut idiot et il l’emmena aussi avec lui.
अगले दिन प्रातः बीरबल उन दोनों मूर्खों को लेकर दरबार में उपस्थित हो गया और अकबर से कहा- “जहांपनाह, आपकी आज्ञानुसार मैंने मूर्खों को एकत्र कर लिया है।” Le matin suivant, Birbal présenta ces deux idiots à la cour et déclara à Akbar : « Ô Protecteur du Monde, j’ai rempli ma mission, voici les idiots. »
“किन्तु यह तो दो ही हैं, मैंने तो चार लाने को कहा था।” « Mais il n’y en a que 2 au lieu des 4 demandés. »
“जहांपनाह, दरबार में चारों मूर्ख उपस्थित हैं।” « Ô Protecteur du Monde, il y a bien 4 idiots présents à la cour. »
अकबर ने हैरानी से पूछा- “कहां हैं, मुझे तो ये दो ही दिखाई दे रहे हैं।” Akbar demanda, perplexe « Où sont-ils, moi je n’en vois que 2. »
“जहांपनाह! दो मूर्ख तो यह हो गए, तीसरे आप हैं जो मूर्खों को एकत्र करने के लिए कह रहे हैं, और चौथा मैं… जो मूर्खों को एकत्र कर रहा हूँ” « Ô Protecteur du Monde ! Voilà bien les 2 idiots, le 3ème c’est vous qui m’avez demandé de les réunir et le 4ème, c’est moi qui ai accepté cette mission ! »
बीरबल का जवाब सुनकर अकबर हँस दिये। En entendant la réponse de Birbal, Akbar se mit à rire.