L’empereur Akbar et son vizir Birbal
कौन-सा मौसम अच्छा ?

कौन-सा मौसम अच्छा ? Quelle est la meilleure saison ?
  Traduction : Djamila Akroun, Cécile Lecampion et Lucie Roignant
बादशाह अकबर ने दरबार में सवाल पूछा – “ठंड में हमें ठंड लगती है, गर्मी में गर्मी बेहाल कर देती है, वर्षा में चारों तरफ़ पानी-ही-पानी हो जाता है, तब कौन-सा मौसम अच्छा कहा जाएगा ?” L’empereur Akbar interrogea la cour : « Pendant la saison froide, nous souffrons du froid, pendant la saison chaude, la chaleur nous incommode, et pendant la saison des pluies, l’eau nous envahit de toutes parts, alors, quelle saison pourrions-nous qualifier de meilleure ? »
बादशाह की बात सुनकर सभी दरबारी एक-दूसरे का मुंह देखने लगे। तब बीरबल अपने स्थान से उठकर बोला – “हुज़ूर, मैं समझता हूँ कि पेट भरे का मौसम ही सबसे अच्छा होता है।” Entendant les paroles d’Akbar, tous les courtisans se regardèrent les uns les autres. Alors, se levant de son siège, Birbal dit : « Votre Seigneurie, je pense que la saison du ventre-plein est certainement la meilleure d’entre toutes ».
“इसका क्या मतलब है बीरबल ?” बादशाह ने पूछा। « Birbal, qu’est-ce que cela signifie ? », demanda l’empereur.
“हुज़ूर, इस बात का मतलब यह है कि पेट भरा अर्थात खाया-पिया शरीर रोगों से दूर रहता है और सभी मौसम झेल जाता है। यदि इनसान पेट का ध्यान न रखे तो रोगों से घिर जाएगा और ऐसे में उसके लिये सभी मौसम बेकार होंगे।” बीरबाल ने कहा। « Votre Seigneurie, cela signifie que les maladies demeurent éloignées d’un corps qui a le ventre plein, c’est-à-dire, qui a bien bu et bien mangé, il tolère alors toutes les saisons. Si l’homme ne pas prend pas soin de son ventre, alors il sera envahi par les maladies, et ainsi, pour lui, toutes les saisons seront mauvaises », dit Birbal.
“बहुत ख़ूब बीरबल, तुमने बिल्कुल ठीक कहा, पेट भरे का मौसम ही सबसे अच्छा होता है।” « Prodigieux, Birbal, tu as parfaitement bien parlé ! En effet, la meilleure saison est bien celle du ventre-plein ! »