L’empereur Akbar et son vizir Birbal
अंधों की सूची

अंधों की सूची La liste des aveugles
  Traduction : Annie Heulin
बादशाह अकबर ने बीरबल से पूछा – “बीरबल, हमारे नगर में कितने अंधे होंगे ?” L’empereur Akbar interrogea Birbal : « Birbal, combien d’aveugles compterait notre cité ? »
“जहांपनाह, गिनती तो मालूम नहीं, किन्तु यह यक़ीन के साथ कह सकता हूँ कि अंधों की संख्या आँख वालों से अधिक है।” « Maître du monde, leur nombre, je ne le connais pas, mais je peux vous assurer que ceux qui ne voient pas sont plus nombreux que ceux qui ont des yeux ».
बादशाह अकबर को बीरबल का जवाब सुनकर हैरानी तो हुई, पर उन्होंने बीरबल को अंधों की सूची बनाने के लिये कहा। बीरबल ने इसके लिये हामी भर दी और एक सप्ताह का समय मांगा… जो बादशाह अकबर ने दे दिया। L’empereur Akbar fut très étonné de la réponse de Birbal et il lui demanda de dresser une liste des aveugles. Birbal acquiesça et sollicita une semaine de délai, ce que l’empereur Akbar lui octroya.
बीरबल ने पाँच दिन तो घर पर बैठकर आराम किया और छठे दिन बाज़ार में बैठकर जूते बनाने लगा। बीरबल को जूते बनाते देख जो भी व्यक्ति वहाँ से गुज़रता तो पूछता, “बीरबल यह क्या कर रहे हो ?” Birbal se retira chez lui durant cinq jours et se reposa. Le sixième jour, il alla s’installer sur la place du marché et se mit à fabriquer des chaussures. Apercevant Birbal en train de fabriquer des chaussures, tous les passants l’interrogeaient : « Birbal, que fais-tu là ? »
बीरबल सभी को अदब से जवाब देता कि जुते बना रहा हूँ और उनके नाम पूछकर एक सूची में लिख लेता। Birbal répondait à tous très courtoisement : « Je fabrique des chaussures » et après leur avoir demandé leur nom, l’inscrivait sur une liste.
शाम को बादशाह अकबर भी उसी बाज़ार से होकर निकले तो उन्होंने भी बीरबल को देखकर पूछा – “बीरबल यह क्या कर रहे हो ?” Dans la soirée, l’empereur Akbar, lui aussi, passa par le marché et lui aussi, apercevant Birbal l’interpella : « Birbal, que fais-tu là ? »
“हुज़ूर जूते बना रहा हूँ।” बीरबल ने जवाब दिया और अकबर का नाम भी सूची में लिख दिया। « Votre Honneur, je fabrique des chaussures ». Telle fut la réponse de Birbal et il inscrivit le nom de l’empereur Akbar sur la liste.
इसी तरह शाम ढलने तक लगभग सभी लोग बीरबल से यह सवाल कर चुके थे और बीरबल ने सभी के नाम लिखकर एक बहुत ही लंबी सूची तैयार कर ली थी। Ainsi jusqu’à la tombée du jour, presque tous les habitants de la cité avaient déjà posé cette question et après avoir inscrit leur nom, Birbal constitua une très longue liste.
सातवें दिन बीरबल दरबार में हाज़िर हुआ और वह सूची बादशाह अकबर को सौंप दी। बादशाह अकबर ने जब उसमें अपना नाम भी देखा तो चौंककर पूछा – “बीरबल इसमें तो हमारा नाम भी है ? किन्तु मैं तो अंधा नहीं हूँ ?” Au septième jour, Birbal se présenta à la salle d’audience et remit cette liste à l’empereur Akbar. Quand l’empereur Akbar vit son propre nom, interloqué, il demanda : « Birbal, là, je vois aussi mon nom ? Mais moi, je ne suis pas aveugle ! »
“हुज़ूर ! यह सूची उन लोगों की है जो मुझे चौक पर जूते बनाते हुए देख कर भी यह पूछ रहे थे कि मैं क्या कर रहा हूँ, और हुज़ूर आपने भी तो यही सवाल किया था, अब आप सोचिये, ये सब लोग अंधे हुए न।” « Votre Honneur, c’est la liste des noms de tous ceux qui, sur la place, même en me voyant fabriquer des chaussures me demandaient ce que je faisais. Et, Votre Honneur, comme les autres, vous aussi, vous m’avez posé cette question. Voyons, tous ces gens-là sont bien aveugles, n’est-ce pas ? »
बीरबल का जवाब सुनकर बादशाह अकबर को महसूस हुआ कि वाकई सभी अंधों के समान ही हैं। उन्होंने बीरबल की बुद्धिमत्ता की तारीफ़ की। En entendant la réponse de Birbal, l’empereur Akbar réalisa qu’en effet, tous ces gens-là sont comme aveugles ! Il fit alors des éloges de la clairvoyance de Birbal.