Affiche du film Veer-Zaara

Chanson du film
वीर-ज़ारा

Distribution complète sur IMDb, synopsis et bande-annonce sur Allociné.fr et fiche complète sur Wikipedia.

Écoutez la chanson.

Ou regardez le clip correspondant.

Dans sa version karaoke.

क्यों हवा… Pourquoi le vent…
Aditya Chopra Traduction : Claire Vincent
एक दिन, जब सवेरे सवेरे सुर्मई से अँधेरे की चादर हटाके, एक पर्बत के तकिये से सूरज ने सर जो उठाया, तो देखा, दिल की वादी में चाहत का मौसम है। और यादों की डालियों पर अनगिनत बीते लम्हों की कलियाँ महकने लगी हैं। अनकही, अनसुनी आर्ज़ू, आधी सोई हुई आधी जागी हुई, आँखें मलती हुई देखती है, लहर दर लहर, मौज दर मौज बहती हुई ज़िंदगी जैसे हर पल नई है, और फिर भी वही। हाँ, वही ज़िंदगी जिसके दामन में एक मुहब्बत भी है, एक हसरत भी है, पास आना भी है, दूर जाना भी है। और ये अहसास है, वक़्त झरने सा बहता हुआ जा रहा है, ये कहता हुआ, दिल की वादी में चाहत का मौसम है और यादों की डालियों पर अनगिनत बीते लम्हों की कलियाँ महकने लगी हैं। Un jour, à l’aube, écartant le drap cendré de l’obscurité, le soleil releva sa tête de l’oreiller de la montagne et vit… Dans la vallée du cœur, c’est la saison de l’amour… et sur les branches de la mémoire, des bourgeons innombrables d’instants passés embaument… Les désirs non dits, non entendus, mi-conscients et mi-inconscients, en se frottant les yeux, voient…Vague sur vague, caprice sur caprice, la vie coule comme si chaque instant était neuf, et pourtant identique… Oui, et cette même vie renferme dans son voile, à la fois l’amour, le remord, le piège à venir, l’approche et l’éloignement… Et la sensation aussi… que le temps passe comme une source qui coule en disant : dans la vallée du cœur, c’est la saison de l’amour et sur les branches de la mémoire, des bourgeons innombrables d’instants passés embaument…
क्यों हवा आज यूँ गा रही है?
क्यों फ़िज़ा रंग छल्का रही है?
मेरे दिल बता आज होना है क्या?
चाँदनी दिन में क्यों छा रही है?
ज़िंदगी किस तरफ़ जा रही है?
मेरे दिल बता क्या है ये सिलसिला?
क्यों हवा आज यूँ गा रही है, गा रही है…
Pourquoi le vent chante-t-il ainsi aujourd’hui ?
Pourquoi l’atmosphère répand-elle des couleurs ?
Mon cœur, dis-moi, que doit-il arriver aujourd’hui ?
Pourquoi ce clair de lune en pleine journée ?
La vie, vers où se dirige-t-elle ?
Mon cœur, dis-moi, quelle est ce déploiement (d’événements) ?
Pourquoi le vent, aujourd’hui, chante-t-il ainsi ?
जहाँ तक भी जाएँ निगाहें
बरसते हैं जैसे उजाले
सजी आज क्यों हैं ये राहें?
खिले फूल क्यों हैं निराले?
खुशबुएँ कैसी ये बह रही हैं
धड़कनें जाने क्या कह रही हैं
मेरे दिल बता ये कहानी है क्या?
क्यों हवा आज यूँ गा रही है, गा रही है…
Partout où mon regard se pose,
on dirait qu’une pluie de lumière est là
Les chemins, pourquoi sont-ils décorés aujourd’hui ?
Les fleurs écloses, pourquoi sont-elles si magiques ?
Quelles sont ces parfums qui exhalent ?
Je ne sais pas ce qu’expriment les battements de mon cœur ?
Mon cœur, dis-moi, quelle est ce conte merveilleux ?
Pourquoi le vent, chante-t-il ainsi aujourd’hui ?
ये किसका है चेहरा जिसे मैं
हर एक फूल में देखता हूँ?
ये किसकी है आवाज़ जिसको
न सुनके भी मैं सुन रहा हूँ?
कैसी ये आहटें आ रही हैं
कैसे ये ख्वाब दिखला रही है
मेरे दिल बता कौन है आ रहा?
क्यों हवा आज यूँ गा रही है…
Quel est ce visage
que je vois dans chaque fleur ?
Quelle est cette voix
que j’entends sans entendre ?
Quel est ce bruit de pas qui approchent ?
Quels sont ces rêves qu’il dévoile ?
Mon cœur, dis-moi, qui viendra ?
Pourquoi le vent, chante-t-il ainsi aujourd’hui ?