Affiche du film Veer Zaara
Écoutez les chansons de Veer Zaara sur Music India Online

Dialogue du film
वीर-ज़ारा

Lire le synopsis et regarder la bande annonce du film sur AlloCiné

Cet extrait est au début du film. C’est le premier échange entre le prisonnier et sa jeune avocate.

वीर-ज़ारा Veer-Zaara
Aditya Chopra Traduction : Eva Koffi
– करीम खान, तुझे खाना पकाना तो आता है न ? – Alors Karim Khan, tu sais faire la cuisine, n’est-ce pas ?
– नहीं जी, घरवाली पकाती है। – Non, Monsieur, c’est ma femme qui cuisine !
– कल से सीख ले, क्योंकि अब से औरतें मर्दों के काम पे उतर आई हैं। क्या पता कब भूखे पेट सोना पड़ जाए। – À partir de demain, apprends à cuisiner, parce que de nos jours, les femmes s’accaparent du travail des hommes. Qui sait quand il faudra dormir la faim au ventre.
– क्या मैं उस हिन्दुस्तानी कैदी से मिल सकती हूँ ? – Est-ce que je peux voir le prisonnier indien ?
– बिलकुल मिल सकती हैं। अब तो आपका हक बनता है, वकील साहिबा। चलिये हम खुद ही ले चलते हैं आपको, इसी बहाने आपके साथ थोड़ा और वक्त गुज़ार लेंगे। – Bien sûr que vous pouvez le voir. Maintenant, vous en avez vraiment le droit, Madame l’avocate. Venez, je vous y conduis moi-même, ce prétexte me fera passer un peu plus de temps avec vous.
– चलें ? – On peut y aller ?
– वैसे mind मत करना, पर आप अपना वक्त ज़ाएर कर रही हैं। २२ सालों से ये बंदा यहाँ पे है, पर आज तक किसीने भी उसके मुँह से एक लव्ज़ नहीं सुना है। न कभी कोई झगड़ा, न कभी कोई शिकायत। ऐसा लगता है, ये आज़ाद होना ही नहीं चाहता। – Au fait, excusez-moi, mais vous perdez votre temps. Cela fait 22 ans qu’il est enfermé ici, mais jusqu’à aujourd’hui, personne ne l’a jamais entendu prononcer un seul mot. Pas de bagarre, pas de plainte. Si bien qu’il semblerait qu’il n’a n’ait vraiment pas envie d’être libre.
– आज़ादी पर हर इनसान का पैदाइशी हक है। और ये हक दिलाना मेरा फ़र्ज़ है।आप अपना फ़र्ज़ अदा कीजिये, और मुझे अपना अदा करने दीजिये। – Dès sa naissance, chaque homme à le droit à la liberté. Et faire respecter ce droit, c’est mon devoir. Faites votre devoir et laissez-moi faire le mien.
– होए ७८६, देख कौन मिलने आया है तुझसे ! वकील साहिबा आई हैं मिलने। सलाम तो कर। हुकूमत-ए-पाकिस्तान ने कुछ हिन्दुस्तानियों का case फिर से खोलने का फ़ैसला किया है। तू जल्दी से अपनी खोई हुई आवाज़ ढूंढ ले और जो बक सकता है, बक दे। ऐसा मौका फिर नहीं आएगा।
कहा था मैंने आपसे ?
– Numéro 786, regarde qui est venu pour te voir ! C’est Madame l’avocate qui est venue te rendre visite, salue-la au moins ! Les Autorités du Pakistan ont décidé de rouvrir le dossier de certains prisonniers indiens. Retrouve vite ta langue [que tu as] perdue et recrache tout ce que tu peux. Cette occasion ne se représentera pas de nouveau.
Qu’est-ce que je vous avais dit ?
– Cell खोलिये, मुझे इनसे अकेले में बात करनी है। – Ouvrez la cellule, je dois lui parler en privé.
– बस, आप paper sign कर चुकी हैं तो हमें क्या।
करीम खान, नज़र रखियो।
ये लीजीये, हमने अपना फ़र्ज़ अदा किया। अब आप जानें, और आपका खुदा।
– Eh bien, ça m’est égal puisque vous avez déjà signé les papiers !
Karim Khan, garde un œil sur eux !
Voilà, j’ai accompli mon devoir, maintenant, c’est à vous et à votre Dieu de jouer !
– चलिये, नाम से शुरु करते हैं। मैं सामिया सिद्दिक्की हूँ, और आप ? क्या आप चाहते हैं कि औरों की तरह मैं आपको सात सौ छियासि पुकारूँ ? आपका नाम इतना बुरा भी नहीं हो सकता, कि आप इक number से पहचान बेहतर समझें। वीर प्रताप सिंघ। अरसे बाद अपना नाम सुन रहे हैं न ? वीर प्रताप सिंघ, मुझसे बात कीजिये। मैं आपकी मदद करने आई हूँ। बाईस साल पहले आप खामोश रहे, और कोई आपको defend नहीं कर पाया। आज ख़ुदा आपको दूसरा मौका दे रहा है। मुझसे बात कीजिये, और मैं आपसे वादा करती हूँ कि मैं आपको आपके हिन्दुस्तान पँहुचा दूँगी।
Please talk to me, please.
मैं ये तो नहीं जानती कि आपको अपनी आज़ादि क्यों नहीं चाहिये, पर आप ये जान लीजिये कि आपकी आज़ादी मेरे लिये, और मेरी तरह इस मुल्क की और लड़कियों के लिये क्यों ज़रूरी है।
मेरे अब्बू तमाम ज़िन्दगी इस मुल्क में औरतों के बेहतर मुकाम के लिये लड़े, पर जितना चाहते थे, उतना वो कर नहीं पाए।
आज सालों की कड़ी मेहनत के बाद मुझे मेरा पहला case मिला है, पर सब जानते हैं कि ये case कोई जीत ही नहीं सकता। वो चाहते हैं कि मैं हारूँ, ताकि फिर कोई भी औरत मर्दों की दुनिया में कदम न रखे, पर मैं हारनेवाली नहीं। मैं अब्बू का ख्वाब, और अपनी औरत ज़ात को कमज़ोर नहीं पड़ने दूंगी।
मुझे सिर्फ़ आपकी मदद चाहिये। मुझसे बात कीजिये। Please talk to me. मुझसे बात कीजिये, वीर प्रताप सिंघ।
– Allons-y, commençons par les présentations : je m’appelle Samiya Siddiqui, et vous ? Voulez-vous que je vous appelle 786, comme les autres ? Votre nom ne peut pas être déplaisant au point que vous préféreriez qu’on vous appelle par un numéro ? Veer Pratap Singh, cela fait des années que vous n’avez pas entendu votre nom, n’est-ce pas ? Veer Pratap Singh, parlez-moi ! Je suis venue pour vous aider. Il y a 22 ans, vous êtes resté silencieux et personne n’a pu vous défendre. Aujourd’hui, Dieu vous donne une seconde chance. Parlez-moi et je vous promets de vous ramener dans votre Inde.
S’il vous plaît, parlez-moi, s’il vous plaît.
Je ne sais pas exactement pourquoi vous ne voulez pas être libre, mais sachez pourquoi votre liberté est très importante pour moi et pour les autres femmes de ce pays.
Mon père s’est battu toute sa vie pour l’émancipation des femmes de ce pays, mais il n’a pas réussi à faire tout ce qu’il avait souhaité.
Aujourd’hui, après des années de travail acharné, on m’a confié ma première affaire, mais tout le monde sait que ce dossier, personne ne peut le gagner. Ils veulent que je perde afin qu’ensuite aucune autre femme ne mette le pied dans le monde des hommes, mais je ne vais pas perdre. Le rêve de mon père… des femmes de mon pays, je ne les laisserai pas tomber.
Il me faut juste votre aide. Je vous en prie, parlez-moi. S’il vous plaît parlez-moi, Veer Pratap Singh.