Affiche du film Padosan
Écoutez les chansons de Chennai Express sur Music India Online

Chanson du film
Padosan

Plus d'information sur ce site.

 

Écoutez la chanson (Music India Online).

Ou regardez une scène culte du film.

मेरे सामने वाली खिड़की में À la fenêtre de la maison d’en face
Rajendra Krishan Traduction : Djamila Akroun
मेरे सामने वाली खिड़की में
इक चाँद का टुकड़ा रहता है
अफ़सोस ये है के वो हमसे
कुछ उखड़ा-उखड़ा रहता है
À la fenêtre de la maison d’en face
Vit un morceau de lune, une demoiselle.
Dommage qu’entre nous il reste un malaise.
Hélas ! elle m’ignore.
जिस रोज़ से देखा है उसको
हम शमा जलाना भूल गए
दिल थाम के ऐसे बैठे हैं
कहीं आना-जाना भूल गए
अब आठ पहर इन आँखों में
वो चंचल मुखड़ा रहता है
Du jour où je l’ai vue,
J’ai oublié d’allumer la lampe du soir,
Je reste là, le cœur retenu,
J’ai oublié de sortir.
Toute la journée, dans mes yeux
Son visage pétillant (de malice) demeure.
मेरे सामने वाली खिड़की में
इक चाँद का टुकड़ा रहता है…
À la fenêtre de la maison d’en face
Vit un morceau de lune, une demoiselle…
बरसात भी आकर चली गई
बादल भी गरज कर बरस गए
पर उसकी एक झलक को हम
ऐ हुस्न के मालिक तरस गए
कब प्यास बुझेगी आँखों की
दिन रात ये दुखड़ा रहता है
La saison des pluies est venue, puis s’en est allée,
Les nuages orageux aussi sont venus et il a plu.
Ô Créateur de la beauté, pour un seul de son regard, je me languis !
Quand s’étanchera la soif de mes yeux ?
Je me consume jour et nuit.
मेरे सामने वाली खिड़की में
इक चाँद का टुकड़ा रहता है
अफ़सोस ये है के वो हमसे
कुछ उखड़ा-उखड़ा रहता है
À la fenêtre de la maison d’en face
Vit un morceau de lune, une demoiselle.
C’est dommage qu’entre nous, il reste un malaise.
Hélas ! elle m’ignore.