Affiche du film Masoom
Écoutez les chansons de masoom sur Music India Online

Chanson du film
मासूम

La vie tranquille d’une famille prend une tournure inattendue le jour où l’un de ses membres commet une grave erreur.

Écoutez la chanson (Music India Online).

 

Ou regardez le clip correspondant.

मासूम Le candide…
Rituporno Ghosh Traduction : Sophie-Lucile Daloz et Jyoti Garin
तुझसे नाराज़ नहीं, ज़िन्दगी, हैरान हूं मैं
ओ… हैरान हूं मैं
तेरे मासूम सवालों से परेशान हूं मैं
ओ… परेशान हूं मैं
तुझसे नाराज़ नहीं, ज़िन्दगी, हैरान हूं मैं
ओ… हैरान हूं मैं
तेरे मासूम सवालों से परेशान हूं मैं
ओ… परेशान हूं मैं…
Ô vie, je ne suis pas fâché contre toi, je suis perplexe
Je suis perplexe…
Je suis embarrassé par tes candides questions
Je suis embarrassé…
Ô vie, je ne suis pas fâché contre toi, je suis perplexe
Je suis perplexe…
Je suis embarrassé par tes candides questions
Je suis embarrassé…
जीने के लिये सोचा ही नहीं, दर्द संभालन होंगे
जीने के लिये सोचा ही नहीं, दर्द सम्भालन होंगे
मुस्कुराएं तो मुस्कुराने के कर्ज़ उतारन होंगे
हो…मुस्कुराऊं कभी तो लगता है
जैसे होंठों पे कर्ज़ रखा है
Pour vivre, je ne pensais pas qu’il fallait endurer de telles douleurs
Pour vivre, je ne pensais pas qu’il fallait endurer de telles douleurs
Pour sourire, qu’il fallait s’acquitter des dettes du sourire
Si par hasard je souris, c’est
Comme si une dette est posée sur les lèvres
तुझसे नाराज़ नहीं, ज़िन्दगी, हैरान हूं मैं
ओ… हैरान हूं मैं, हैरान हूं मैं
ज़िन्दगी, तेरे गम ने हमें रिशते नए समझाए
ज़िन्दगी, तेरे गम ने हमें रिशते नए समझाए
मिले जो हमें धूप में मिले, छांव के ठंडे साए
तुझसे नाराज़ नहीं, ज़िन्दगी, हैरान हूं मैं
ओ… हैरान हूं मैं, हैरान हूं मैं…
Ô ma vie, je ne suis pas fâché contre toi, je suis perplexe
Je suis perplexe, je suis perplexe
Ô ma vie, ton chagrin m’a fait comprendre de nouveaux liens (de parenté)
Ô ma vie, ton chagrin m’a fait comprendre de nouveaux liens (de parenté)
Ceux que j’ai rencontrés, je les ai rencontrés sous les ombres rafraîchissantes
Ô ma vie, je ne suis pas fâché contre toi, je suis perplexe,
Je suis perplexe, je suis perplexe…
आज अगर भर आई हैं, बूंदें बरस जायेंगी
आज अगर भर आई हैं, बूंदें बरस जायेंगी
कल क्या पता, इनके लिये आँखें तरस जाएंगी
जाने कब ग़म हुआ, कहाँ खोया
एक आँसू छुपाके रखा था
Aujourd’hui, ils se répandront, mes yeux, s’ils sont remplis de larmes
Aujourd’hui, ils se répandront, mes yeux, s’ils sont remplis de larmes
Demain, qui sait, si pour eux, ils se languiront
Qui sait quand le chagrin est arrivé, où il a disparu
Une larme avait été cachée
तुझसे नाराज़ नहीं, ज़िन्दगी, हैरान हूं मैं
ओ… हैरान हूं मैं, हैरान हूं मैं
तेरे मासूम सवालों से परेशान हूं मैं
ओ… परेशान हूं मैं, परेशान हूं मैं, परेशान हूं मैं…
Ô ma vie, je ne suis pas fâché contre toi, je suis perplexe
Je suis perplexe, je suis perplexe…
Je suis embarrassé par tes candides questions
Je suis embarrassé, je suis embarrassé, je suis embarrassé…